अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रायश्चित की वेला

 निर्भया, उन्नाव, कठुआ नाम है कुत्सित कर्मों का
दुनिया झेले यह दंश विषैला सामाजिक परिवर्तन का,
भस्म हो गयीं बालाएँ बलात्कार की अग्नि से
दुष्टों ने अपनी प्यास बुझायी दैहिक रक्त प्रवाहों से,
भारत भूमि की आँखें भीगीं, शाप-ग्रस्त इस पीड़ा से
निर्मल काया दूषित हो गयी, बलात्कार के छींटों से।

अबला, नारी, मासूम बच्ची, शिकार बनी शैतानों का
देह के भूखे घड़ियालों ने भूख बुझायी निर्मम होकर,
आज हुआ पुरुषत्व पराजित, रक्षक भक्षक बनकर
शर्मिन्दा है सभ्य समाज, ऐसे कलंक का टीका लेकर
जनतन्त्र का तगमा भारी, पर न्याय नहीं उपलब्ध
वर्षों तक न्यायालय का चक्कर, जीवन हुआ अभिशप्त"

कुछ नाम यहाँ सांकेतिक हैं, परदे के पीछे हैं अनेक
सबका कैसे नाम लिखूँ - शब्द हमारे सीमित हैं,
हर रोज़ सुनायी देती है एक नई चीत्कार
नेतागण के झगड़े में बलात्कार बना चुनावी हथियार
नैतिकता का ह्रास हुआ, भोग-विलास का है साम्राज्य
सरकारी तंत्र गुमराह हुआ, क़ानून नहीं पर्याप्त}

महिला शक्ति का चर्चित नारा सर्वत्र सुनायी देता है,
क्या दीन-दुःखी अबला शामिल है? पता नहीं चलता है
नारी नारी में विभेद, एक बड़ा उपहास 
कैसे रुकेगा बलात्कार? यह है एक दुष्कर संग्राम
प्रायश्चित और शुद्धिकरण – गाँधी का पैगाम
यही आज का मूलमंत्र है, लेना है इसका संज्ञान।

भारतवंशी होकर भी हम अन्तर्मन से लज्जित हैं
व्यथा रूह की कैसे बाँटें - सात समुंदर दूरी है,
न्याय नीति के द्वारा ही सामाजिक सद्भाव बढ़ेंगे
दूर देश में भारत का सम्मान सुरक्षित रखेंगे।

(संकेत : निर्भया (२०१२), उन्नाव (२०१७-१८), कठुआ (२०१८) नामक क्रूर बलात्कार अति चर्चित है।)

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

एकांकी

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं