अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वागत है नई सदी का

(साभार "उठो पार्थ! गाँडीव संभालो" काव्य संकलन से)


तम के तारों को समेट कर
अवगाहित कार उन्हें उदधि में
यह जो उतर रही है ऊषा,
प्राची क्षितिज के स्वर्णांचल पर।


मानव के अज्ञान तमस को तज
निशीथ को वर्ण-भेद कर,
यह जो अरुण रूप बिखरा है,
भव-भास्वर का उदयाचल पर।


इनमें छिपी हुई हैं किरणें
मानवता के नव-भविष्य की,
इन किरणों से ज्योतित होगा
उन्नत भाल मही का।
स्वागत है नई सदी का।


गंगा-वोल्गा-हडसन मिल
हर मन के मैल मिटाएँ।
क्षितिज बनेगी यह जगती,
टूटेंगी सब सीमाएँ।


मनुजत्व पुन: जागेगा,
वसुधा को कुटुम्ब बनाकर,
मानव का गौरव होंगी,
वेदों की महिम ऋचाएँ।


नरता का उदयाचल होगा,
भारत यह नई सदी का।
स्वागत है नई सदी का।

भारत की अस्मिता अखंडता
भारतीयों का मूल-मंत्र हो।
एक व्यक्ति की नहीं, देश की
उन्नति हेतु सभी तंत्र हों।

प्रजातंत्र के लेबल केवल
दरवाज़ों पर नहीं लगे हों।
सब आयामों में समाज के
सच्चा, जीवित, प्रजातंत्र हो।


जाति-भेद से परे हो भारत
अपना देश सभी का।
स्वागत है नई सदी का।


इन्टरनेट जैसे यंत्रों से
दुनिया एक गाँव बनेगी।
देशों की ही नहीं, दूरी
जब-मन की भी कम होगी।


नव-सौहार्द का क्षितिज खुलेगा
नये मनुज की अगवानी में।
मानवत्व-गौरव हेतु यह
सदी अन्यतम होगी।


मंगल-ग्रह पर मानव-गृह की
नींव पड़ेगी इसी सदी में,
स्वर्ण-काल होगा नरता का,
प्रकृति-नटी का टीका।
स्वागत है नई सदी का।


एक प्रश्न पर साल रहा:


क्या पुन: सभ्यता नंगी होगी?
या मर्यादा के आँचल में छिपी रहेगी मानव-लज्जा?
महुए-चंदन से महकेंगे, घर-आँगन, बगिया, सरेह या
फैक्ट्रियों की धूम-धमक से होगी इस धरती की सज्जा?


क्या उन्नति की भाग-दौड़ में कुचली जाएगी मानवता?
हम परिवार जिसे कहते, क्या रह जाएगी उसकी सत्ता?
नव-शिशु के क्रंदन की खुशियाँ, मिलन-विरह की व्याकुलताएँ,
मानव-मन की मृदुल तंत्रियाँ, प्रणय-प्रेम की परिभाषाएँ।


यंत्रों के कर्कश निनाद में वीणा के स्वर खो जाएँगे?
डूबेगा क्या दिल का सरगम, भूलेंगी मन की भाषाएँ?
प्रश्नों, आशाओं का संगम, मनुज-सभ्यता का चौराहा।
संदेहों, आकाँक्षाओं से, भरे हुए ये अद्‌भुत हैं क्षण।


ये पहली किरणें शताब्दि की, जाने क्या लेकर आईं हैं;
नर-प्रज्ञा के नये शिखर, यह नरता-घाती हिंसक बम?


लेकिन विश्वासों के बल पर
मानवता विकसित होती है।
आओ संदेहों को तज,
मानवता में विश्वास करें हम।
शुभम्‌-स्वप्न से शुरू करें यह
स्वर्ण-शतक जगती का।
स्वागत है नई सदी का।
स्वागत है नई सदी का।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

स्मृति लेख

कविता

कहानी

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं