अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अनवरत - क्रांति

अशर्फ़ियों का लालच
हुक्मरानों में जब भी बढ़ा 
हुकूमत ज़ुल्म ढाती है
बेढंगे क़ानून बनाये जाते हैं
आवाज़ें दबायी जाती हैं
उम्मीदें कुचली जाती हैं
ग़रीब, ज़्यादा ग़रीब होने लगता है
किसान खेतों से भूख उगाता है 
मासूमों के हक़ छीन लिए जाते हैं
माहौल मे संप्रदाय का ज़हर भर दिया जाता है

 

तब विरोध होता है  
जेलें भरी जाती हैं
मासूम मारे जाते हैं
पैबंद पुलिस गोलियों से बात करती है
जनता भूख की क़तारों में खड़ी रहती है
उम्मीद में कि उनका जो आक़ा है
उसका दिल पसीज जाये 
फिर भी नहीं होता
एक तरफ़ भूख उज्जवल दिवा-सपने देखती है

 

और फिर
अपनों को खोती है
सपने तोड़ दिए जाते हैं 
आवाज़ें दबा दी जाती हैं
जैसे राख से ढंक दिया हो दहकते लावे को
निराशा से भर जाता है परिवार
चिराग़ बुझने लगता है


फिर कोई हवा का झोंका उठता है
उन्हीं मासूमों की आह से
और फिर
बिछायी राख
उड़ने लगती है
देखते ही देखते सारा मजमा दहकने लगता है
हुक्मरानों की चौबंद व्यवस्था ढहने लगती है


जनता की क्षुधा की आग 
उनके दिमाग़ पर छा जाती है
फिर क्रांति होती है. . . क्रांति
क्रांति!
सारी चौबंद ढा दिए जाते हैं
हुक्मरान ख़त्म होते हैं
उन्हें भी अविलम्ब मुक्त कर देती है जनता


फिर एक बड़ा शून्य छाता है
उम्मीद फिर जनता के बीच से 
एक नया नेता चुनती है
जो नए सपने दिखाता है
सत्ता सँभलती है
और फिर 
इतिहास फिर स्वयं को दुहराता है
अशर्फ़ियाँ फिर चमकती हैं
हुक्मरानों की लारें फिर टपकती हैं 
फिर यही व्यवस्था ज़ाहिल होने लगती है


एक अनवरत क्रम चलता है
और इस चक्रण में
हर बार 
बस वही मासूम पिसते रहते हैं
कभी भूख की भेंट
कभी सत्ता की भेंट
और फिर
आख़िर क्रांति- भेंट
चढ़ते हैं इस 
अनवरत चक्रण में
हर बार

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं