अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चूहे

कुछ चूहे मेरे घर में कायरों की तरह,
मुझसे आँखें चुराकर,
मेरी अनुपस्थिति में घुस आते हैं।
कभी मेरी किताबों पर,
कभी रसोई में बचे रोटियों के ढेर पर,
पूरी रात धमाचौकड़ी मचा लेने के बाद,
सुबह होने के पहले ही ओझल हो जाते हैं।
मैं हर बार अपनी आँखों से,
उन्हें अपने कपड़े काटते देखता हूँ,
लेकिन, मेरी भी एक मजबूरी है,
मेरे घर में वे धार्मिक प्रतीक कहे जाते हैं।
जी कहता है कभी उन्हें,
तोपों से बिलों समेत मिटा दूँ,
वह जो उन्हें भेजता है साज़िश के तहत,
उनका नामोनिशान मिटा दूँ,
लेकिन पुनः सोचता हूँ,
जब तोपें चलेंगी तो,
अपने घर की दीवारें भी गिरेंगी,
क्योंकि कुछ चूहों के बिल,
अपने घर में ही मौजूद हैं,
जिनके सहारे वे वे मेरे घर तक आते हैं।
धर्म के नाम पर,
मेरे घर का सुख छीनने वाले ये चूहे,
जिन्हें मैं रोज अपनी आँखों से देखता हूँ,
ऐसा नहीं कि मेरा रक्त अब नीर बन गया,
या मेरा साहस वामी हो गया है,
अग्नि और त्रिशूल की धार तो तीक्ष्ण है,
पर सच तो यह है कि,
मेरे घर का मुखिया ही बेपानी हो गया है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

ललित निबन्ध

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं