अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लुढ़कती बूँदें

स्याही आसमानों से 
लुढ़कती बूँदें और बूँदों की आवाज़ें 
जो पत्तों से सरककर 
खेतों में बिछ जाती हैं 
और जनती हैं मिट्टी की सुंगंध 
मंत्रमुग्ध करती हैं मन 
और समा जाती हैं 
प्रकृति की हर दिन बदलती 
अनंत रंगीन किताब में 
और मिटा देती हैं 
अंदर की कलुषा 
जैसे कवक-फफूँदें मिला देते हैं 
मिट्टी में गिरी हुए हर अवशेष को 
बिना परहेज़ के। 


मैं और मेरा सारा वजूद 
मज़हब के कुछ चंद रंगों में  
उलझ के रह जाता है 
शहर की दीवारों, छज्जों और इश्तिहारों में 
गर कोई निकाल दे इन्हें
शायद ही पहचान पाए 
आसमान का इंद्रधनुष के रंग
मेरी बदली हुई ये दुनिया है 


जिसमें इतनी तपन है 
ये सिर्फ़ गर्मी नहीं 
अंधाधुंध बेतरतीब 
दौड़ते घोड़ों के नथुनों से 
निकलती भाप है 
जो सारी हवाएँ सोख ले 
नदिया पी गए 
प्यास न बुझी 
तो समुन्दर पी रहे हैं 
इनके उत्सर्ग इतने विषैले 
कि कवक-फफूंदें भी नहीं 
मिला सकते मिट्टी में 


विकास के ये पैमाने जो 
गढ़े गए थे महामहिमों ने टेबल पर 
थोप दी थीं सारी बेढंग क़वायदें
भर लिए नोट 
बेच दी महकती साँसें 
बदल दिए उसूल 
काटे जंगल 
ख़त्म कीं सैकड़ों नदियाँ 
बाँट दिए लाखों तालाब
निगल लिए कई समूचे पहाड़ 
लालसा न रुकी फिर भी 


महसूस किया मैंने 
महीनों की कोरोना-क़ैद 
बेसहारा और बेघर होना भी
हरपल मौत का साया 
जब अतरिक्त विकल्प सारे हथियार 
और तैयारियाँ 
सारा विकास
मानो कम पड़ गए  
"मैं" ही जो सर्वश्रेष्ठ 
भ्रम टूटा 
या अभी भी है शेष?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं