अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वर्ग की तलाश

जीवन और जीवन की जटिलता,
कभी जीवन जीने की अधीरता,
कभी मरने की आतुरता,
दिन भर अपने सर पर,
जिम्मेवारियों के बोझ तले,
मरने वाला हर इंसान,
अपने स्वजनों के हितार्थ,
हर दुख उठा लेना चाहता है,

 

कभी-कभार,
उसके मलिन मुख पर,
खुशी के भाव प्रकट होते हैं,
जब वह सोचता है,
रात को उसके घर में,
पकने वाले माड-भात और,
कच्चे तेल में बने चोखा के,
अतुलनीय स्वाद के बारे में,

 

दिन भर की थकान और,
पूरी रात की चाकरी के बाद,
जब बंद होने लगती है पलकें उसकी,
तब भी उसकी आँखें,
उसे स्वतंत्रता नहीं देतीं,
दिखाने लगती हैं तब वह,
कल के पथरीले सपने,

 

बरसात में बहती जाती उसकी झोंपड़ी,
उसके बच्चों का नंगा बदन,
और,
एक छोटी सी आशा की किरण,
उसे उषाकाल से पहले ही जगा देती हैं,
और बेचारा आदमी,
चल पड़ता है बिना कुछ सोचे,
उसी पुरानी राह पर,
जहाँ वह गिरता है,
घायल होने के बाद भी चलता है,
शायद इस विश्वास के साथ,
कि यही पथरीली राह उसे,
उसकी मंज़िल के पास ले जायेगी,

 

लाख मिलें जानलेवा ठोकरें,
तो कोई बात नहीं,
उसका अपना अस्तित्व,
जीर्ण-शीर्ण हो जाये,
तब भी उसे कोई परवाह नहीं,
और वह निःशब्द,
चल पड़ता है उसी राह,
जहाँ से शुरू हो सकेगी,
उसके स्वर्ग की तलाश।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

ललित निबन्ध

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं