अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आलू 

मैं हूँ मित्र तुम्हारा आलू।

 

सीधा-सादा,भोला-भाला
फ़ितरत नहीं ज़रा भी चालू।
मुझे उबालो फिर तुम खाओ
स्वाद अनोखा, बलि-बलि जाओ।


मुझे भून कर भी खा सकते
स्वाद और बढ़िया पा सकते।
क़िस्म-क़िस्म की सब्ज़ी बनती
कितनी? ज़रा कठिन है गिनती।


सबका मुझ पर लाड़ घनेरा
सब कहते "यह साथी मेरा।"
बैंगन, परवल, लाल टमाटर
पालक, गोभी, अहा! ये मटर।


मित्र सभी हैं मधुर सब्ज़ियाँ
फ़ेहरिस्त लम्बी है इनकी।
हाँ, किंचित दूरी रखता हूँ
तासीर कड़वी है जिनकी।
 

चना काबुली या हों देसी
हम मिल बनते स्वाद निराला।
यदि पनीर का साथ मिले तो
तुम लोगे चटखारे लाला।


बनती कढ़ी, मठा के आलू
आलू-भुजिया औ दम-आलू।
मन चाहे तुम वहाँ मिला लो
तरह तरह की चाट बना लो।


चिप्स और पापड़ बनते हैं
भजिया, भुजिया का क्या कहना।
नहीं मौसमी सब्ज़ी हूँ मैं
हर मौसम में है, मेरा रहना।


संग मसालों को ले करके
चाट, समोसों में मैं रहता।
स्वाद और सेहत मैं देता
कुछ भी ग़लत नहीं मैं कहता।


सोडियम और पोटैशियम मुझमें
प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट है मुझमें
छियत्तर प्रतिशत है मुझमें पानी।
विटामिन्स, फ़ाइबर्स हैं सुन ज्ञानी।


बच्चे, युवा, वृद्ध भी खाएँ
पतलू खाएँ, मोटू खाएँ।
मैं तो सबको ही भाता हूँ
स्वाद सलौना दे पाता हूँ।


मुझको गेंद बनाकर खेलो
उपज कहीं भी मेरी ले लो।
दोमट, बलुही काली मिट्टी
रहे न उसमें कंकड़-गिट्टी।


तनिक सिंचाई, गुड़ाई कर लो
पैदावार अधिक, घर भर लो।
शीत-गृह में मुझको रख लो
टिकूँ बहुत दिन निश्चित कर लो।


पहचाना जाता दुनिया भर में
मैं ऐसा प्यारा, न्यारा आलू।
मेरे बिना रसोई सूनी
फ़ितरत नहीं ज़रा भी चालू।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

6 बाल गीत
|

१ गुड़िया रानी, गुड़िया रानी,  तू क्यों…

 चन्दा मामा
|

सुन्दर सा है चन्दा मामा। सब बच्चों का प्यारा…

 हिमपात
|

ऊँचे पर्वत पर हम आए। मन में हैं ख़ुशियाँ…

अंगद जैसा
|

अ आ इ ई पर कविता अ अनार का बोला था। आम पेड़…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध

बाल साहित्य कविता

लघुकथा

स्मृति लेख

कविता

कहानी

किशोर साहित्य कहानी

सांस्कृतिक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं