अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आत्मिक ज्ञान

परम रोज़ की तरह पूजा आदि से निवृत हो दफ़्तर के लिये रवाना हो गया। कुछ ही क्षण में वापिस घर आया और फ़्रिज में से बोतल निकालकर पानी पीने लगा। 

पत्नी ने हैरान होकर पूछा, “आप वापिस क्यों आए? कुछ भूल गये हो क्या?”

“अरे! कुछ भी भूला नहीं हूँ।”

“तो फिर क्यों आए वापिस?”

“जैसे ही मैं घर से निकला रास्ते में एक विधवा मिल गई।”

“तो क्या हुआ?”

“तुम्हें पता है विधवा सामने मिलती है तो अपशुकुन होता है, काम बिगड़ जाता है।”

“अरे! आप भी पढे़-लिखे होकर अंधविश्वास में पड़ रहे हो। ऊपर से एक-एक घंटे पूजा-अनुष्ठान करते हो।”

“तुम अबोध हो...! तुम्हें कुछ पता नहीं इन बातों का।”

“अरे! ये बोध-अबोध का प्रश्न नहीं है। आत्मिक ज्ञान व मानवीय संवेदना की बात है। हम भी इंसान, वह भी इंसान, उल्टा हमें उस विधवा को संबल देना चाहिए। जब आप वापिस मुड़े उस समय उसको कितना मानसिक आघात लगा होगा। विधवा क्या मर्ज़ी से बनी, सब भाग्य का खेल है।”

पत्नी थोड़ा पास जाकर बोली, “मुझे लगता है आपका पढ़ना, पूजा अनुष्ठान आज व्यर्थ हो गया!”

पत्नी की बात को वह गहराई से सुन रहा था तथा मन ही मन लज्जित महसूस कर रहा था।

पत्नी ने समझाया, “हम इंसान ही अगर अबल व्यक्तियों से घृणा और उपेक्षा करेंगे तो भगवान की पूजा अनुष्ठान दिखावा है। मानवता की पूजा ही ईश्वर की सच्ची पूजा है। हम आडंबर व अंधश्रद्धा में इस थोड़े से जीवन को नष्ट कर रहे हैं। आज वैज्ञानिक युग में मानव अंतरिक्ष व पाताल की तह तक चला गया है और हम बुराईयों के भक्त बन रहे हैं। आज के युग में पढ़ा-लिखा ही अगर ऐसी विचारधारा रखे तो, अनपढ़- पढे-लिखों में फ़र्क?”

“वाक़ई तुमने मेरी आँखें खोल दीं। मुझे गर्व है कि तुम मेरी जीवनसाथी हो!”

परम ने जब पत्नी को धन्यवाद दिया तब उसकी आँखों से करुणा की बूँद टपकी उस विधवा के लिये और प्रेम की लहर उमड़ी पत्नी के आत्मिक ज्ञान के लिये।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अगला जन्म
|

सड़क के किनारे बनी मज़दूर बस्ती में वह अपने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं