अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दहेज एक: रूप अनेक 

विवाह योग्य बेटी के लिए वर तो ढूढ़ना ही है। कार्य की व्यस्तता, छुट्टियाँ मिलने की मुश्किल; पर आज निकल ही पड़े हैं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इंद्रेश्वर एक मंज़िल की ओर।

गंतव्य पर पहुँचते ही लड़के के पिता बुद्धलाल बाहर ही मिल गए। इंद्रेश्वर ने अपना परिचय दिया तो उन्होंने ज़ोर से सलाम ठोका, फिर "जय हिंद सर" किया।

"अरे नहीं भाई व्यक्तिगत भेंट में सरकारी प्रोटोकॉल आवश्यक नहीं बुद्धलाल जी।"

"जी  सर! आदेश?"

"नहीं भाई आदेश नहीं।... दरअसल बात यह है कि मेरी बेटी ने इसी वर्ष कम्प्यूटर से बी.ई. किया है। मेरे एक रिश्तेदार ने बताया है कि आपका बेटा एमबीबी स करके अब जूनियर रेज़िडेंट है; मैं इसी सिलसिले में आया हूँ।"

बुद्धलाल की मुखमुद्रा बदल गयी, "...जी तोss?... कहिएss?"

"तो क्या आप उपयुक्त प्रस्ताव मिलने पर अपने बालक की शादी करना चाहते हैं?"

"बिल्कुल करना चाहता हूँ।"

"लड़की मेडीकल क्षेत्र की ही चाहिए  या फिर कोई भी उपयुक्त लड़की?"

"लड़की का मेडीकल लाइन का होना ज़रूरी नहीं। घर-परिवार अच्छा हो, लड़की सुंदर और संस्कारवान होनी चाहिए।"

"मुझे बताया गया है कि लड़का जेआर के बाद पीजी की पढ़ाई करना चाहता है।"

"सही सुना है; वह इसके बाद पीजी ही करेगा।"

"बुरा न मानें तो एक बात पूछूँ?"

"जी कहिएs?"

"लड़का भी पढ़ाई जारी रखना चाहता है, आप भी लड़के की पढ़ाई जारी रखने के पक्ष में हैं; तो अभी उसकी शादी क्यों कर रहे हैं? पहले पढ़ाई पूरी हो जाने दें।"

"देखिए साहब! मैं सिपाही आदमी। कब तक ख़र्च उठाऊँगा। शादी करके ज़िम्मेदारी से मुक्त होना चाहता हूँ। शादी के बाद वह (पुत्र) जाने और शादी करने वाला (लड़की का पिता) जाने कि वह पीजी कैसे करेगा।"

आश्चर्यचकित इंद्रेश्वर अब बुद्धलाल का मुँह ताक रहे थे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध

बाल साहित्य कविता

लघुकथा

स्मृति लेख

कविता

कहानी

किशोर साहित्य कहानी

सांस्कृतिक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं