अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

द्वापर-प्रसंग

बहता काला रक्त है
          हरिण-मुखी थिर पाँव
यह द्वापर की साँझ है
          ढलती जाती छाँव।

लपटें उठतीं गगन तक
          कैसा यह मृग-दाव
इस अंधे युग के नहीं
          संभव मिटने घाव।

दुर्लभ अपनी बंधुता
          दुर्लभ यह प्रासाद
कक्ष-कक्ष में लाख से
          हों संबंध अगाध।

प्रजातंत्र की द्रौपदी
         राजनीति का द्यूत
पौरुष के अपमान की
          गाथा कहते सूत।

चंपानगरी-सा छुटा
         शिशु-वसु कब किस तीर
मान-दग्ध कुरु-भूमि में
         हम वैकर्तन वीर।

अभिनंदित क्यों हो नहीं
          भीष्म-जयी गांडीव
रक्षित नंदी-घोष में
          ढाल बना जब क्लीव।

रह कोलाहल-धर्षिता
          सांध्य-काकली मौन
हुई विवसना श्यामला
          अब वंशीधर कौन।

कौरवता इस दौर में
          इतनी हुई असीम
दुःशासन के सामने
          बौने अर्जुन-भीम।

नायक-खलनायक हुए
           अब इतने समरूप
लगे वक्त का चेहरा
           धरे विदूषक रूप।

रहने दो अब मत कहो
           दया करो हे व्यास
पिघले शीशे-सा हुआ
          रक्त-सना इतिहास।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

साहित्यिक आलेख

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं