अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हे अमोघ! हे ब्रह्मबाण! अरि के प्राणों को हरो हरो

देखो समक्ष है रणभूमि,
काल रूप तुम धरो धरो;
हे अमोघ! हे ब्रह्मबाण!
अरि के प्राणों को हरो हरो।


घोर समर ये मातृदेश का,
महाबली लड़ना है तुम्हें;
निज भावों को वज्र करो,
पावक पथ चलना है तुम्हें।


उठना गिरना गिरकर उठना,
नियति ने बारम्बार किया;
हे अभयंकर कालजयी,
तुमने नियति को पार किया।


विकट परीक्षा है प्रचंड,
उत्तीर्ण इसको करो करो;
हे अमोघ! हे ब्रह्मबाण!
अरि के प्राणों को हरो हरो।


हे पराक्रम के मूर्त रूप,
मन-प्रबोध कर उठो वीर;
युद्ध आसन को ग्रहण करो,
शंखनाद करके गम्भीर।


रणभेरी की गूँज सुनो,
संग्राम शेष है बचा हुआ;
महारथी खंडित कर दो,
ये चक्रव्यूह जो रचा हुआ।


भारत माँ के हे सपूत!
कर्तव्य तुम्हारा करो करो;
हे अमोघ! हे ब्रह्मबाण!
अरि के प्राणों को हरो हरो।


हे वीर धुरंधर आत्मबली,
रिपु-ज्वाला का शमन करो;
बाधायें ये जटिल कुटिल,
हे अग्रदूत तुम दमन करो।


विश्राम तुम्हारे भाग्य नहीं,
करते संघर्ष तुम बढ़े चलो;
पकड़ तिरंगा जकड़ हस्त,
हे वज्र रूप तुम खड़े चलो।


है आभार मातृभूमि का,
वीर महाबल भरो भरो;
हे अमोघ! हे ब्रह्मबाण!
अरि के प्राणों को हरो हरो।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता - क्षणिका

नज़्म

खण्डकाव्य

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं