अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कलुषित हो, मानुष किस ओर चला है. . .?

वचनहीन हो
क्रंदन करता,
ईर्ष्या द्वेष
क्रोध में जलता;
हृदय में
तृष्णा लेकर,
लोभी मन
जीवन कर;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


मिथ्या प्रेम
मूर्ख बनाता,
एकाकी हो
पछताता;
कुत्सित भाव
कलंकित हो,
संबंधों से
वंचित हो;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?

 

निज संबंधी
को मारा,
छल प्रपंच कर
भी हारा;
नैतिकता से
हीन हुआ,
कुंठित हो
निर्बल दीन हुआ;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


कपट भाव से
प्रीति प्रवंचन,
हृदयहीन
करता आलिंगन;
काम-पिपासा
मात्र समर्पण,
आकुल करके
अपना जीवन;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


वेष शिष्ट का
स्वांग विनीता,
माया युक्ति
मन जीता;
उघड़ अंत
अपमानित होता,
दोष विधाता
को दे रोता;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


कैसे विडंबना
ये सहता?
शपथी बन
मिथ्या कहता;
है जगत छली
ये युग कैसा?
बन कालनेमि
मारीच जैसा;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


स्नेही संग
घात किया,
निंदनीय हर
बात किया;
संत रूप धर
ढोंगी ये,
आत्ममोह का
रोगी ये;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


आतिथ्य
अभिनन्दन भुला,
श्रेष्ठ जनों का
वंदन भुला;
लोभ काम के
वशीभूत,
मद के अधीन हो
अभिभूत;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


उन्मादित हो
अज्ञानी,
विध्वंस किया
बन विज्ञानी;
मानवता को
झोंक दवानल,
अट्टहास करता
ये पागल;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


मायावी
सिंहासन बैठा,
अहं क्रोध के
आसन बैठा;
शील-घात कर
श्रेष्ठ बना,
अमर्यादित
ज्येष्ठ बना;
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?


जननी का
अपमान किया,
पिता को न सम्मान दिया;
भ्राता को भी
इसने छला है,
जग का अब तो
नहीं भला है;
कलुषित हो,
मानुष जिस ओर चला है. . .?
कलुषित हो,
मानुष किस ओर चला है. . .?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं