अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तिये के चावल

संयोगवश शहर में एक ही दिन जालिम सिंह व धर्मचंद की मृत्यु हो गई। जालिम सिंह एक नम्बर का दुष्ट व कई हत्याओं में शामिल व्यक्ति था। वह अपने जीवन के कई वर्ष जेल में बिता चुका था। उसके ठीक विपरीत धर्मचंद एक पुण्य-आत्मा, सदाचारी एवम् परोपकार की साक्षात मूर्ति थे। जब एक ही दिन दोनों की मृत्यु हुई तो एक ही दिन उनका तीसरा भी था। शमशान में तिया करने वालों की भीड़ थी। अंत में रीति के अनुसार पके हुये चावलों को कौवा आकर खावे तब तिये की प्रक्रिया पूरी समझी जाती अत: दोनों के परिजन कौवों का इन्तज़ार करने लगे। तब ही अचानक एक कौवा कहीं से उड़ता आया और जालिमसिंह की राख के ढेर के पास पके चावलों को चोंच में भर कर उड़ गया।

ये देख कर सभी दंग रह गये। इसके बाद फिर एक भी कौवा वहाँ नहीं आया। बहुत देर प्रतीक्षा कर सभी वहाँ से चले गये। पर धर्मचंद के श्रेष्ठ व सदाचारी जीवन पर कौवे वाली घटना ने उस दिन प्रश्न-चिह्न सा लगा दिया। इस घटना की चर्चा कई महिनों चली कि क्या संयोगवश शमशान में कौवे के न आने व चावल न खाने से क्या किसी व्यक्ति की भलाई, बुराई में बदल सकती है और खाने पर बुराई, भलाई में। ये प्रश्न, सभी शहर वासियों को आज भी मन ही मन परेशान करता रहता है...

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

गीत-नवगीत

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं