अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कर्मठ गधा

घोड़ों का क़द ऊँचा है
माना पद भी ऊँचा है।
गधा नहीं फिर भी कम हुआ
ढोता बोझ नहीं ग़म है।

घोड़ा रेस जिताता है
कुछ जेबें भर जाता है।
जो-जो काम गधा करता
घोड़ा कब कर पाता है।

धीरज का है रूप गधा
नहीं क्रोध में जलता है।
रूखा-सूखा खाकर भी
बड़ी मस्ती में चलता है।

मान अपमान से परे गधा
कभी नहीं शोक मनाता है।
अपने ऊँचे मधुर स्वर में
गुण प्रभु के गाता है।

सुख-दुख से निरपेक्ष गधा
सचमुच सच्चा संन्यासी है।
जिस हालत में भगवान रखे
वही हालत सुख – राशि है।

गध कर्म का पूजक है
सुबह जल्दी उठ जाता है।
बीवी सोती रहती है
गधा ही चाय बनाता है।

एसी चैम्बर में घोड़ा
घण्टी खूब बजाता है।
गधा देर में जब सुनाता
तब घोड़ा चिल्लाता है।

दफ़्तर में जाकर देखा
गधे डटकर काम करें।
घोड़ा फाइलों में छुपकर
जब चाहे आराम करे।

घोड़ा खाता है तर माल
गधा बस पान चबाता है।
चाहे जितना भी थूके
न पीकदान भर पाता है।

जिस दिन गधा नहीं होगा
दफ़्तर बन्द हो जाएँगे।
आरामतलब जो भी घोड़े
सारा बोझ उठाएँगे।

इसीलिए कहता हूँ
गर्दभ का सम्मान करो।
राह – घाट में मिल जाए
कभी न तुम अपमान करो।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

गीत-नवगीत

लघुकथा

सामाजिक आलेख

हास्य-व्यंग्य कविता

पुस्तक समीक्षा

बाल साहित्य कहानी

कविता-मुक्तक

दोहे

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं