अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नियति

बात उन दिनों की है जब मैं कक्षा चार या पाँच में पढ़ती थी। जब कभी मैं अपने आस-पास किसी के पिता या माँ के मरने की बात सुनती या देखती तो मन बहुत बेचैन हो जाता। ये बेचैनी एक या दो दिन नहीं बल्कि हफ़्तों तक रहती। मैं नहीं जानती ऐसा सभी बच्चों के साथ होता होगा या नहीं। मन रह-रह कर यही सोचता कि वो बच्चा कैसे रहेगा? किसे मम्मी-पापा कहेगा? कहीं मेरे साथ ऐसा हो गया तो मैं क्या करूँगी? और भी न जाने कितने सवाल मन में उठते। जब रात में सब सो जाते तो ये सवाल और परेशान करते। रात-रात भर नींद नहीं आती। मैं रात भर भगवान से प्रार्थना करती, "हे भगवान मेरे साथ कभी ऐसा न हो"। बाल मन ये मानने को तैयार न था कि ये प्रकृति का नियम है, जो आया है उसे जाना है। मुझे शाम से ही डर लगने लगता, रात कैसे कटेगी? बिस्तर पर लेटे-लेटे रात भर मैं दिन में किये गये कार्यों के बारे में सोच-सोच कर अपने मन को उस बात से हटाने का प्रयास करती लेकिन मन घूम-फिर कर उसी बात पर आ जाता।

आज मैं ख़ुद माँ बन चुकी हूँ। मेरी माँ मृत्यु शैया पर हैं। उन्हें गम्भीर बीमारी है। वो माँ जो अपने समय में बहुत ही सुन्दर और कोमल थी। सुन्दरता और कोमलता एक-दूसरे के पूरक थे। ज़रा-सा सिर दर्द हो़, बुखार हो घबरा जाती थी। मरने से बहुत डरती थी। इसीलिए ज़रा-सी परेशानी में डॉक्टर के पास भागती थीं। आज जब उन्हें असहनीय पीड़ा होती है तो उनकी कराह अन्दर तक हिला देती है। महीनों बिस्तर पर पड़े-पड़े भयानक दर्द झेलते-झेलते अब उनका मन जीवन से घबरा उठा। हमेशा मरने से डरने वाली माँ कराहते हुए टूटे-फूटे शब्दों में भगवान से कहतीं, "हे भगवान तुम्हें मेरे प्राण लेने हैं तो ऐसे ही ले लो, इतनी तकलीफ़ क्यों देते हो”। जब इन्सान ख़ुद अपनी मौत की दुआ माँगने लगे तो दर्द की पराकाष्ठा होती है। मैं भी सोचती, "भगवान, आख़िर तुम्हें प्राण ही तो चाहिए, उस के लिए इतना उपक्रम क्यों कर रहे हो?”

इन्सान नियति के आगे कितना विवश हो जाता है। कभी जिनके न रहने की कल्पना से ही हम काँप उठते हैं, जिनके लिए रात-रात दुआएँ माँगते हैं और कभी उन्हीं की मुक्ति की कामना करने लगते हैं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु

कविता

पुस्तक समीक्षा

कविता-ताँका

साहित्यिक आलेख

शोध निबन्ध

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं