अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्त्री होना . . .

कितने पतझर से निकल आई है
फिर भी गुनगुना लेती है अभी . . .
 
देर से सोने और
जल्दी जागने का शौक़ नहीं है उसे,
न दिन भर उनींदी सी विचरने का,
तुम देख नहीं पाते हो
दिन भर मुस्कुराते चेहरे के पीछे
घिरती परछाइयाँ
जिनसे उलझती है वह
रात की स्याही में
कि जब गहरी नींद में
सो रही होती है दुनिया
वह ख़ुद में ख़ुद को तलाशती है।
पूछती है अपने आप से
क्या चाहती है?
कौन सी भटकन है जो
तलाशती है सुकून
गहन निविड़ अंधकार में?
शायद मन का कोलतार
स्याह अँधेरे में रिस,
कर जाता है हल्का।
उस कोलतार में
मन के टुकड़े बिखेर,
बाँध लेती है सेतु
तारों के प्रांगण तक,
तारों के पास उत्तर नहीं हैं
उसके किसी भी प्रश्न का
किन्तु उनकी शीतलता बूँद बूँद
उतर जाती है अंतस में
तब कहीं वह कह पाती है
कि प्रेम के मीठे सोते में कितनी
खार है।
 
वह जागती है बेकल, कि
निकल नहीं पाती सिद्धार्थ की तरह . . .
छोड़ नहीं पाती कुछ भी
कि उसको बस आता है समेटना।
पतझर में पत्तों के गिरने का स्वर
छील देता है उसका अन्तर्मन
सूखे पत्तों को भी सहेजती,
बटोर कर रखना चाहती है वह।
अपने मन की उर्वरता को,
उसमें फूट रही असंख्य कोंपलों को,
बाँध लेती है सायास कि
उसके मन का पोषण
नहीं किसी के पास
फिर भी करती रहती है आस।
रोक लेती है आँसुओं को भीतर ही
कि टूट न पाएँ तटबन्ध।
जान पाती है, पर समझ नहीं पाती
क्यों सृष्टि ने रचा ही यूँ,
कि
स्त्री होना बहुत सा देना है,
स्त्री होना, भरी बरसात में
प्यासा रह जाना है।
स्त्री होना रीत जाने पर भी मुस्कुराना है।
स्त्री होना पर्वत सा होकर भी
कमज़ोर कहलाना है
स्त्री होना अपनी हर शक्ति
को पुरुष से अंकवाना है
स्त्री होना पुरुष के पैमाने पर
खड़ा हो जाना है,
स्त्री होना शिव हो जाना है!
शिव ने हालाहल पिया था एक बार
स्त्री को हर पड़ाव पर
कालकूट आत्मसात कर मुस्कुराना है!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

स्मृति लेख

कहानी

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं