अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जाग मुसाफ़िर, सवेरा हो रहा है....

नव कुसुम खिल उठे हैं,
सुंगध फैली है चहुँ ओर देख...
जीवन के हर एक क़िस्से को,
साकार कर ले... पर ना जाने?
तू क्यों सो रहा है?
जाग मुसाफ़िर, सवेरा हो रहा है...


मन में समाई स्मृतियों को,
वास्तविकता में परिवर्तित कर दे...
विजय प्राप्त हो हर दिन तुझको,
कार्य कुछ ऐसा प्रारंभ कर... किस सोच में है?
तू क्यों सो रहा है?
जाग मुसाफ़िर, सवेरा हो रहा है...


चमक उठे दिनकर की भाँति,
शीतलता हिमकर सी रखना...
स्थिर हो जाना सफल शिखर पर,
चमकते हुये तारों के समान....क्या शंका है?
तू क्यों सो रहा है?
जाग मुसाफ़िर, सवेरा हो रहा है।


किस चीज़ अभाव है तुझे? और किसकी आस है?
घृणास्पद है तू! दुनिया के लिये...
अपनी एक पहचान बना,
तभी प्रिय होगा सबके हृदय में.... ये क्यों भूल गया?
तू क्यों सो रहा है?
जाग मुसाफ़िर, सवेरा हो रहा है...


क्यों समझता है अयोग्य ख़ुद को?
क्या कमी है तुझ में? कोई नहीं...?
सामर्थ्य है, लगन है तुझमें,
अद्वितीय है तू! इस संसार में...चल उठ!
तू क्यों सो रहा है?
जाग मुसाफ़िर, सवेरा हो रहा है...


अपार यश फैले तेरा जग में,
विविध प्रकार से नाम हो तेरा...
सबलों के तू साथ बढ़,
निर्बलों पर उपकार कर... किस सोच में है?
तू क्यों सो रहा है?
जाग मुसाफ़िर, सवेरा हो रहा है...
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नवगीत

कविता

नज़्म

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं