अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कछुए की बहिन

कछुआ तालाब से निकला और धीरे–धीरे सरक कर खेत की मेंड़ पर आकर बैठ गया। उसे तालाब से बाहर का संसार बहुत ही प्यारा लगा। स्कूल से लौटते खिलखिलाते बच्चों को देखकर उसका मन मचल उठा। उसने सोचा– मैं भी बच्चों की तरह खिलखिलाता। कन्धे पर बस्ता लटकाकर स्कूल जाता।

उसने अपना सिर निकाल कर बच्चों की तरफ देखा। दो शैतान बच्चों ने उसको देख लिया। फिर क्या था –दोनों उसे बारी–बारी से ढेले मारने लगे। कछुए ने अपने हाथ, पैर, सिर सब एकदम समेट लिये। खोपड़ी पर लगातार ढेलों की मार से उसे लगा कि वह मर जाएगा। लड़कों के साथ एक छोटी लड़की भी थी। वह चिल्लाई– 

"क्यों मार रहे हो? इसने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है?" 

"तुम्हें बहुत दु:ख हो रहा है। यह तुम्हारा भाई है क्या?" एक शैतान लड़के ने कहा।

"इसे राखी बाँध देना" – दूसरा लड़का कछुए को ढेला मारकर बोला।

लड़की की आँखों में आँसू आ गए – "यह मेरा भाई हो या न हो, पर यह दुश्मन भी नहीं है।"

"अरे, ओ कछुए की बहिन! अपने घर चली जा" –दूसरा बोला।

सभी–बच्चे ‘कछुए की बहिन, कछुए की बहिन! कछुए की बहिन!’ कहकर जोर–जोर से हँसने लगे। उन दोनों शैतान लड़कों ने कछुए को उल्टा करके ढेलों की बीच में रख दिया।

लड़की चुपचाप अपने घर चली गई।

घर पहुँचने पर उसका मन बहुत उदास हो गया। वह सोचने लगी– बेचारा कछुआ! कब तक उल्टा पड़ा रहेगा?

उसे लगा – जैसे वह सचमुच उसका भाई ही हो। वह चुपचाप घर से निकली और तालाब के किनारे जा पहुँची। कछुआ उल्टा पड़ा हुआ था। वह सीधा होने के लिए छटपटा रहा था। लड़की ने चारों तरफ देखा। आसपास कोई नहीं था। वह उसे उठाकर तालाब की तरफ दौड़ी। उसने कछुए को तालाब के पानी में छोड़ दिया।

कछुए ने अपनी लम्बी गर्दन निकाली। चमकती छोटी–छोटी आँखों से लड़की की तरफ प्यार से देखा और फिर गहरे पानी में उतर गया। 

लड़की खुश होकर घर की तरफ दौड़ी। अब उसे कोई ‘कछुए की बहिन’ कहे तो वह नहीं चिढ़ेगी।

कछुए ने भी फिर कभी तालाब से निकल कर घूमने की हिम्मत नहीं की।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

इमली
|

"भैया! पैसे दो ना!" वैभव ने कहा …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

नवगीत

लघुकथा

सामाजिक आलेख

हास्य-व्यंग्य कविता

पुस्तक समीक्षा

बाल साहित्य कहानी

कविता-मुक्तक

दोहे

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं