अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जो डर गया वह मर गया

एक व्यक्ति ने रात में सपना देखा कि एक शेर उसके पीछे पड़ गया है। और वह भागकर किसी तरह एक पेड़ पर चढ़ जाता है। उसने ऊपर पहुँचकर दम लिया और नीचे देखा, तो शेर अब भी नीचे बैठा हुआ था। 

वह जान गया कि उसे काफी समय तक इसी तरह इस पेड़ पर वक़्त गु्ज़ारना होगा। उसने थोड़ा आराम से बैठने के लिए इधर-उधर नज़र डाली, तो उसका दिल ही बैठ गया। उसकी नज़र दो चूहों पर पड़ती है, जो उस शाख को कुतर रहे थे, जिस पर वह बैठा था। इनमें से एक चूहा काला और दूसरा सफेद था। वह जान गया कि देर-सवेर वह शाख भी ज़रूर गिरेगी।

घबराकर उसने एक बार फिर नीचे को चारों ओर नज़र घुमाई। इस बार उसने देखा कि शेर से थोड़ी दूर एक अजगर ठीक उसके नीचे अपना मुँह फाड़े उसके गिरने की राह ही देख रहा है। घबराहट में उसे कुछ सूझ नहीं रहा था। उसने ऊपर ईश्वर की ओर देखते हुए प्रार्थना करना शुरू की। प्रार्थना के लिए ज्यों ही उसका मुँह खुला अचानक ही उसे लगा कि जैसे उसके मुँह में कुछ मीठी वस्तु आ गई है। उसने देखा उसके ठीक ऊपर एक शहद का छत्ता था, जिससे रिस-रिस कर शहद की बूँदें धीर-धीर गिर रही हैं।

इस मिठास ने उसके मुँह का जायका ही बदल दिया। वह मुँह खोलकर बार-बार बूँद के टपकने का इंतज़ार करने लगा। अब उसे इसमें आनंद सा मिलने लगा। जब भी बूँद गिरती वह खुशी में कूदने सा लगता। चारों ओर ख़तरों से घिर होने के अहसास और उस खौफ़ को भूलकर वह इस खेल में मस्त हो गया। उसे उस समय सिवाय छत्ते और शहद की बूँद के मिठास के कुछ भी दिखाई देना बंद हो चुका था।

सबक: यह सारा डर बस मृत्यु का डर है। अगर मृत्यु के बार में ही सोचते रहेंगे, हर जगह उसे ही देखते रहेंगे, तो जीवन रूपी शहद के आनंद से वंचित रह जाएंगे। जीवन के आनंद को पहचानने वाला ही जीवन का रस ले पाता है।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

इमली
|

"भैया! पैसे दो ना!" वैभव ने कहा …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

गीत-नवगीत

लघुकथा

सामाजिक आलेख

हास्य-व्यंग्य कविता

पुस्तक समीक्षा

बाल साहित्य कहानी

कविता-मुक्तक

दोहे

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं