अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कृष्णा वर्मा - दीवाली हाइकु

दीप माला ज्यों
उतरी आकाश से
तारों की लड़ी।

उजड़ी माँग
अमावस की भरें
दीप कतारें।

सतत जलें
आस्था की डोर थामें
नन्हा दीपक।

नन्हें दीपों की
लहराती लौ काटे
सघन तम।

सजे दीवाली
कुम्हार कृति लाए
धरा पे नूर।

दीया औ बाती
अमा का स्याह तन
उजला बनाती।

ज्योतित दीप
ज्यों झलमल तारे
टिमटिमाएं।

बनों उजास
परहित के लिए
भरो उजास।

मिटें अँधेरे
मनुज धरे स्वयं
जो दीप रूप।

दीवाली दीप
हैं प्रेम के प्रतीक
लाएं समीप।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

28 नक्षत्रों पर हाइकु
|

01. सूर्य की पत्नी साहस व शौर्य की माता…

अपनी भाषा
|

अपनी भाषा आत्म ज्ञान का स्रोत गले लगायें…

अमलतास
|

भू के प्रेम में लुटाता मधुमास अमलतास।

अरुण कुमार प्रसाद हाइकु - 1
|

1. नयी व्याधियाँ।  प्रतिशोध हिंसा का। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

पुस्तक चर्चा

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं