अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कृष्णा वर्मा - हाइकु - 3

डाल के पंछी
बाँचते हवाओं से
पेड़ों की व्यथा।

रुत सावनी
बाहर बरसातें
भीगता मन।

जुलाहे बुन
सिरजन की धुन
मोहती मन।

छुएँ सपन
धड़के पलकों का
नाज़ुक दिल।

उतरा चाँद
पूनम की हवेली
प्रेम ले पाश।

कर्म निराले
अँधेरों में उजाले
वर्तिका पाले।

बंसवारियाँ
धरें अधरों पर
वेणु के स्वर।

मदिराए हैं
नख से शिख तक
प्रकृति अंग।

सूखे हैं धारे
मरे सरोवर औ
हंस बंजारे।

रिश्ते औ नाते
किश्तों में चलती हैं
अब तो साँसें।

उमर मरी
सुधियों की केतकी
हरी की हरी।

कंठ भर्राए
बीती खड़ा समेटे
स्मृति चौराहे।

तेज़ जो चले
हवा बने तूफ़ान
हौले ही भले।

होड़ के मारे
दौड़े ऐसी दौड़ कि
छूटे सहारे।

सुबह-शाम
अपनों की सोचते
हुई तमाम।

वक़्त की ढैया
दुर्दिन में ठेलते
रहे पहिया।

कुतरें तोते
बाज़ों से मिल पंख
पखेरू रोते।

स्वजन खींचें
लक्ष्मन रेखाएँ क्यों
बाड़े बनाएँ।

गुपचुप सी
दिल के पलने में
पलती पीर।

यादें तुम्हारी
तरल कर गईं
आँखें हमारी।

काँच के कंचे
दुनिया थी आबाद
बचपन की।

काठ के लट्टू
मन को थे नचाते
ख़ुशी लुटाते।

टायर हाँक
बटोर लीं ख़ुशियाँ
बचपन में।

बिना काजल
चमका देतीं आँखें
बाल स्मृतियाँ।


 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

28 नक्षत्रों पर हाइकु
|

01. सूर्य की पत्नी साहस व शौर्य की माता…

अतृप्त मन
|

धोखा ही खाया, मन ये सिरफिरा, फिर से गिरा।…

अपनी भाषा
|

अपनी भाषा आत्म ज्ञान का स्रोत गले लगायें…

अमलतास
|

भू के प्रेम में लुटाता मधुमास अमलतास।

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

पुस्तक चर्चा

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं