अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हर कहीं सब कहीं

देख लीजिए न नरेन्द्र जी को
हैं न ’कहीं‘।
और राजेश जी को भी
कैसे तो विराजमान हैं वे भी ’कहीं‘।
इन्हें ही देख लीजिए
और उन्हें भी
तभी तो छाए हैं न अखबार के कॉलम से।

देखिए तो इनके चेहरे
इन्हें क्या परवाह उनकी
और अब देख लीजिए उनके भी चेहरे
उन्हीं का कौन बाँध सकता है घर घाम में।

अपनी अपनी हवा है 
अपना अपना बदन
अपना अपना आकार है
अपना अपना समाचार

खबरदार
खबरदार
खबरदार

जान लेना चाहिए
कि हर बड़ा है वही
जो दिखता है ’कहीं‘।
और एक आप हैं मियाँ दिविक
जो हैं ही नहीं कहीं

न कोई अपनी हवा है
न बदन ही
न कोई अपना आकार है
न समाचार ही।

मुझे तो शक है
कोई पूछेगा भी जब पड़ोगे बीमार
आ चला बुढ़ापा अब कुछ सोचो भी यार
काहे की फसल जब खेत है न क्यार।

’’अरे भाई यह कैसी खिटपिट यह कैसी तकरार
अब छोड़ो भी रटन्त और यह तुकान्त
यह आर आर
तुमने तो बना डाला
आदमी का भी अचार

मानता हूँ नहीं हूँ ’कहीं‘ मैं
पर जानता हूँ
जो होता नहीं ’कहीं‘
होता है ’सब कहीं‘
और मानेंगे न आप भी
कि असल तो वही होता है
जो ’सब कहीं‘ होता है
जैसे कि हवा
जैसे कि आग
जैसे कि साँस
जैसे कि आस।

कोई भी हो यात्रा
यहीं से शुरू होती है
और यहीं पर खत्म भी।

युद्ध हो या शांति
भीख हो या क्रांति
यहीं से जन्म लेती है
और यहीं पर दफन।

हिलाने पर वृक्ष
वृक्ष ही हिलता है
मरने पर आदमी
आदमी ही मरता है।

लगता होगा किसी को अच्छा
किसी के उतारना कपड़े
किसी को मारना भूखा
किसी को रखना दरिद्र
ऐश करना किसी की छाती पर
पर अन्ततः करता है एक ही यात्रा
एक ही यात्रा
जैसे करता है कलैण्डर
जनवरी से दिसंबर तक
(जानते हैं न ज से जनवरी, ज से जन्म
दि से दिसम्बर, दि से दिवंगत)

इसीलिए तो
नहीं अफ़सोस मुझे
कि मैं नहीं हूँ ’कहीं‘
पर हूँ तो 
और खुशी है मुझे
कि हो सकता हूँ ’हर ’कहीं‘।‘

लो फिर कहूँ
होता तो वही है सही
जो होता है सब कहीं
जैसे कि आदमी
जैसे कि प्रश्न।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

स्मृति लेख

पुस्तक समीक्षा

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

सांस्कृतिक कथा

हास्य-व्यंग्य कविता

बाल साहित्य कहानी

बात-चीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं