अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

परिवर्तन

ग्रैजुएट होते ही मुक्ता ने माँ-बाबूजी के सामने अपनी नौकरी का प्रस्ताव रखा। बात माँ के गले ना उतरी। समझाते हुए बोली नौकरी करनी है तो कर लेना लेकिन शादी के बाद, वो भी यदि पति माने तो। मन मसोस कर चुपचाप मुक्ता माँ का उत्तर पी गई। कुछ ही समय में मुक्ता की शादी कर दी गई। ससुराल के रीति-रिवाज़ों को निभाती और घर-गृहस्थी की बारिकियाँ समझते-समझते पति

से नौकरी की बात करने की सोच ही रही थी कि एक रोज़ पता चला वह मातृत्व जगत में पाँव रखने वाली है। अनन्या के जन्म के दो बरस बाद जब नितिन गोदी में आ गया तो सपना हारता सा दिखा। परिस्थितियों के चलते मुक्ता ने अपनी चाह को दबा तो लिया किंतु मरने नहीं दिया। बेटी अनन्या को जी-जान से पढ़ाने-लिखाने में जुट गई। आधुनिक नारी की श्रेणी में खड़ी होने की अपनी चाह को अपनी बेटी द्वारा पूरा करने के सपने देखने लगी। जवान होती अनन्या अक्सर माँ से सुनती रही हम औरतें ही घर-गृहस्थी की चक्की में क्यूँ पिसती रहें, हमारे जीवन में भी परिवर्तन अनिवार्य है। तू कभी किसी से दब कर कोई समझौता मत करना मेरी तरह। देखते-देखते अनन्या ने आई.ए.एस. का इम्तहान पास कर लिया। नौकरी लगते ही फौरन बैंक के एक उच्चाधिकारी आकाश से अनन्या की शादी हो गई और साल भर में मुक्ता नानी बन गई। बेटे के पहले जन्मदिन के बाद ही आकाश को बैंक की ओर से कुछ बरसों के लिए अमरीका भेजा गया। आकाश ने अनन्या को नौकरी से त्यागपत्र दे कर साथ चलने को कहा लेकिन उसने तो माँ की बात पल्ले बाँध रखी थी सो नहीं गई। कुछ ही समय में ऊब कर अनन्या ने अपने सहकर्मी से नज़दीकियाँ बढ़ा लीं और कुछ बरसों बाद आकाश को तालाक के कागज़ भेज राहुल से शादी कर ली। अचानक अनन्या को राहुल के साथ देख माँ-पिता के पाँव ज़मीन तलाशने लगे। आवाक क्यूँ हो गईं माँ तुम? तुम्हीं तो कहती थीं औरत ही क्यों समझौता करे उसके लिए भी तो परिवर्तन जीवन में अनिवार्य है सो मैनें भी परिवर्तन ही तो किया है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

पुस्तक चर्चा

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं