अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

क़ीमत

आँगन से ही पुकार लगाती भीतर भागती हुई तारा ने लगभग चिल्लाते हुए कहा,  "माँ देखो कौन आया है।"

माँ कमरे में कपड़े सहेजते हुए पूछा, "अरे कौन आ गया जो इस तरह से घर को सर पर उठा रही है?”

आवाज़ में ख़ुशी सींचती हुई तारा बोली, "माँ रजनी जीजी आई हैं।"

सुनते ही माँ को जैसे पंख से लग गए। उड़ती हुई सी कमरे से बाहर आई, बिटिया को देख कर नम आँखों से हृदय से लगा लिया। दोनों की धड़कनें यूँ धड़क रही थीं जैसे एक-दूजे को मन का हाल बता रही हों। इतने दिनों बाद बिटिया… बीच में ही माँ की बात काटते हुए तारा बोली, "लगता है ससुराल का सुख-आराम रास आ गया है जीजी को।"

लाड जताते हुए बड़े प्यार से बेटी के कांधों को पकड़ कर माँ ने कहा, "बैठ तो सही रजनी, यूँ परायों की तरह क्यों खड़ी है बिटिया? अरे तारा! जा तो ज़रा जीजी के लिए गरमा-गरम अदरक वाली चाय तो लेकर आ और कुछ खाने के लिए भी।" बेटी के हाथ अपने हाथ में लेते हुए माँ ने पूछा, "यह क्या बिटिया रुई से नरम हाथ इतने खुरदरे कैसे हो गए, कितना दुबला गई है तू, रंग-रूप भी बिगड़ गया, अपना ध्यान नहीं रखती क्या?"

"अपना ध्यान! कैसे रख सकती हूँ माँ। ऊँचे घर में जो ब्याहा है आपने, क़ीमत तो चुकानी पड़ेगी ना,” तारा की आँखें पनीली थीं। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

पुस्तक चर्चा

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं