अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु दोहे - 1

1.
बेकल था तेरा हिया, मैं हो उठा अधीर।
मैं रोया इस पार था, तुम्हें उठी जो पीर॥
2.
तुम जागे थे रात भर, दूर कहीं परदेस।
हम सपनों में खोजते, धरे जोगिया भेस॥
3.
द्वार तुम्हारा तो मिला, तुम थे गुमसुम मौन।
हमने बाँचा हूक को, और बाँचता कौन॥
4.
साँस रही परदेस में, जुड़ी कहीं पर डोर।
प्रेम नाम जिसको दिया, उसका मिला न छोर॥
5.
किया आचमन मन्त्र पढ़,सुबह-शाम जो नीर।
पोर पोर नम कर गई, वो थी तेरी पीर॥
6.
ढूँढ़ा जिसको उम्र भर, उसको कहते प्रीत।
धरती-सागर खोज के, मिले तुम्हीं बस मीत।
7.
अपने ही घर में लगा, हम हैं पाहुन आज।
भोर हुई तो चल पड़े, अपने-अपने काज ।
8.
मन्दिर जाकर क्या करूँ, मुझको मिला न चैन।
पण्डित जो रहता वहाँ, वह भी है बेचैन॥
9.
दो पल में माटी हुआ, जीवन भर का मेल।
हमसे खेले यार सब, सदा कपट का खेल॥
10.
कुटिया रोई रात भर, ले भूख और प्यास।
महल बेहया हो गया, करता है परिहास॥
11.
दीमक फ़सलें चट करें, घूम-घूम घर द्वार।
गाँव-नगर लूटे सभी, लूटे सब बाज़ार ॥
12.
इज़्ज़त लुटी गरीब की, लूट लिया हर कौर।
डाकू तो बदनाम थे, लूटे कोई और ॥
13.
पोथी से डरकर छुपा, जेबों में कानून।
जिसकी जेबें हों भरी, उसको चढ़े जुनून ॥
14.
कर्ज़ चढ़ा हल तक बिका, बिके खेत खलिहान।
दो रोटी की भूख थी, सिर्फ़ बचा अपमान॥ 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त
|

1. कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

गीत-नवगीत

लघुकथा

सामाजिक आलेख

हास्य-व्यंग्य कविता

पुस्तक समीक्षा

बाल साहित्य कहानी

कविता-मुक्तक

दोहे

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं