अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

साँझ का सूरज

पंछियों की चहचाहट के साथ, 
लालिमा से भरी ठंडी हवा के साथ, 
नीले गगन में, पहाड़ों में छिपते हुए, 
मैं साँझ का सूरज, ढलते हुए, 
बताना चाहता हूँ, अपने मन की व्यथाएँ,
कहना चाहता हूँ, अपनी कुछ कामनाएँ, 
जताना चाहता हूँ कुछ लालसाएँ।
 
यूँ तो भोर होते ही पूज लेते हो,
पर दूजे पहर में मेरी बर्बरता से संत्रास होते हो, 
और,
तीजे पहर तक तो मानो भूल जाते हो। 
 
जब शाम को अपनी लालिमा समेटते हुए, 
पहाड़ियों में छिपता हूँ, 
रोज़ के कुछ पल क़ैद कर ले जाता हूँ।
इस विशाल गगन में गुम होते हुए, 
महसूस करता हूँ, सुनता हूँ,
एक जुट होकर घोंसले को लौटते 
पंछियों की चहचहाट, 
झूलों पर झूलते बच्चों की मुस्कराहट, 
टहलते बुज़ुर्गों का ठहाका लगाना, 
तो किसी और गली में,
गिल्ली-डंडा खेलते बच्चों का चिल्लाना। 
 
कभी सुनता हूँ कारखानों में बजता भोपूँ,
छुट्टी की ख़ुशी में सभी की खिलखिलाहट, 
तो किसी ओर,
दफ़्तर से लौटते हुए स्कूटर की सरसराहट।
 
देखता हूँ, 
सैर पर जाने को तैयार,
बुला रहे सब अपने यार। 
किसी ठेले पर चाट के साथ हो रही गप्पें,
तो कोई दौड़ा रहा गाड़ियों के चक्के।
शाम की चाय, और किसी विषय पर वाद-विवाद, 
तो एक ओर होते मंदिरों में शंखनाद।
 
इन्हीं मधुर सुगंधों,और सुरों से घिरा हूँ,
मैं भी, भिन्न भावनाओं से भरा हूँ।
माना, में छिप रहा हूँ, 
पर यूँ न भूलो मुझे, 
में समय के चक्र में बँधा हूँ।
ढल रहा हूँ, 
पर, वापिस आने को,
अगले दिन भोर बनने को,
सभी के मन में, 
एक नए दिन का उत्साह लाने को।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं