अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ढहने को कुछ रहा नहीं

दिल से दिल के बँटवारे में 
ढहने को कुछ रहा नहीं 

 

भाई का भाई प्रतिरोधी 
जाने कैसी हवा चली है 
लोगों में कितना विष व्यापा 
दुनियाँ कितनी कली-छली है 

 

अलग-अलग खाना-पीना है, अलग-अलग जगना-सोना है 
अलग-अलग सबका हिसाब, अब अलग-अलग पाना-खोना है 

 

घर की दीवारें भी चुप हैं 
कहने को कुछ रहा नहीं 

 

तन पर माटी के लेपन से 
खेतों की हरियाली से 
दरवाज़े पर बँधी गाय के 
खूँटे की रखवाली से- 

 

विरत हुआ बेटा, जब से पैसे ख़ातिर निकला परदेस 
गुमसुम से हैं मइया-बब्बा, बोझिल है जीवन का शेष 

 

सूनी है दुधहंड़-बटलोही 
महने को कुछ रहा नहीं 

 

मानव जितना ही अनगइयाँ 
बेपर्दा-बेशर्म हुआ 
चाँद हुआ निष्ठुर, सूरज 
उतना ही ज्यादा गर्म हुआ

 

जंगल जितने कटे, बढ़ी साँसों की उतनी चीख़ 
जल को लेकर विश्वयुद्ध की निकट हुई तारीख़ 

 

ताल-तलैया, नदिया-पोखर 
बहने को कुछ रहा नहीं 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

आओ सुबह बनकर
|

मन साँझ -सा बोझिल है, तुम बनके सुबह आओ मेरे…

आज मुझमें बज रहा जो तार है
|

आज मुझमें बज रहा जो तार है, वो मैं नहीं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

नवगीत

ग़ज़ल

कविता

अनूदित कविता

नज़्म

बाल साहित्य कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं