अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

त्रिलोक सिंह ठकुरेला के दोहे - 1

ख़ुद ही विष विपणन करे, ख़ुद ढूँड़े उपचार।
नई सदी की सोच में, जीवन है बाज़ार॥

 

पुरवाई मदमस्त हो, रही रागिनी छेड़।
बाहें बाहों में लिए, झूम रहे हैं पेड़॥

 

फूल हँसे, भँवरे  झुके, फैली प्रेम-सुगंध।
मन के काग़ज़ पर हुए, प्रीति भरे अनुबंध॥

 

चकाचौंध है, शब्द हैं, मुस्कानें, मनुहार।
किंतु भाव से शून्य है, सजा धजा बाज़ार॥

 

 

बलशाली की तूलिका, मनमर्जी के चित्र।
पावन को पापी करे, पापी बने पवित्र॥

 

अधरों पर मुस्कान है, मन में गहरी पीर।
होठों पर ताला जडे़, रिश्तों की ज़ंजीर॥

 

जैसा मेरे पास था, मैंने दिया परोस।
चाहे अच्छाई चुनो, चाहे ढूँढ़ो दोष॥

 

मन ही रचता लोक को, सादा हो या भव्य।
जिसकी जैसी भावना, वैसा ही भवितव्य॥

 

लोकतंत्र के दौर में, आम नहीं है आम।
वह सत्ता के अश्व की, थामे हुए लगाम॥

 

उसका सरल स्वभाव है, लोग कहें मतिमंद।
इस कारण वह आजकल, सीख रहा छलछंद॥

 

गोत्र, वंश, कुल गौण हैं, कर्म दिलाते मान।
कांटों की अवहेलना, फूलों  का सम्मान॥
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त
|

1. कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कहानी

कविता - हाइकु

दोहे

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं