अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

त्रिलोक सिंह ठकुरेला के दोहे - 2

घुमड़े बादल नेह के, धरती हुई अधीर।
प्रेम भरा मन देखकर, छम छम बरसा नीर॥

 

दुख सुमिरें तो दाह है, सुख सुमिरे आनन्द।
सभी विशेषण सोच के, ज्ञानी या मतिमंद॥

 

बहुत अधिक बदली नहीं, नारी की तस्वीर।
उसके हिस्से आज भी, वे आँसू, वह पीर॥

 

वह रोटी के गणित में, भूली यौवन, रूप।
लगी हुई है काम में, क्या छाया, क्या धूप॥

 

जिनके मन में भाव हैं, उनका ही भगवान।
जो च्युत श्रद्धा, प्रेम से, वे मद के प्रतिमान॥

 

नारी के सम्मान में, अनगिन गीत,कवित्त।
रंग रूप की परिधि से, आगे बढा न चित्त॥

 

रही न वह दीपावली, नहीं रहा वह फाग।
जीवन नीरस कर रही, विद्वेषों की आग॥

पाने की उम्मीद तक, मनुहारों के सत्र।
दिखे स्वार्थ सम्बंध ही, यत्र तत्र सर्वत्र॥


संदेशे उनके यही, करें अपरिग्रह लोग।
उनके जीवन में रहैं, सुख-सुविधाएं, भोग॥

 

सारा जगत कुटुंब है, सुने गए उपदेश।
खंड खंड में हम बंटे, बहु भाषा, बहु वेश॥


जब से सीमित हो गए, खुद तक सभी विकल्प।
जीवन से ग़ायब हुए, सुखपूरित संकल्प॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त
|

1. कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कहानी

कविता - हाइकु

दोहे

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं