अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डायल मी *माधव*

समाचार में है विज्ञप्ति यही
रेडियो पर भी है शोर यही
टी.वी चले तो विज्ञप्ति यही,
पहले था नम्बर केवल,
यानी 1से शून्य तक,
अब नई तकनीक ने
आसान किया सबका संर्पक साधन,
केवल नाम डायल करो
तो पहुँच होती गंतव्य तक
जैसे पारलर वाली ने
नम्बर दिया है 905458-रमा,
तो डायल करो 905458-आर ए एम ए,

 

यही तो जाने कब से,
अपनी प्राचीन पुस्तकें बताती रहीं
सभी ज्ञानी ध्यानी कहते यही,
केवल नाम लोगे तो ,
पहुँचोगे अपने इष्ट तक
किन्तु मानता नहीं कोई।
पर उपयोग में अब ला रहे
समाजी उसी विज्ञान को,
आगे के नम्बर तो नगण्य हैं
क्योकि समान हैं सब,
अन्तिम बात है प्रमुख,
उसी का नाम डायल करना है
कृपया सम्पर्क के लिए
मुझे डायल करें *कृष्णा*
या मुझ तक पहुँचें *केशव*
या केवल दबाएँ *माधव*

 

ये एक दिन बोले भगवान
अपनी गीता से निकल कर,
ध्यानी ध्यान में था, उसे चेतना हुई,
सब नम्बर भूला,
याद रहा अब बस *माधव*
जब भी डायल करता *माधव*
जब भी दबाता केवल *केशव*
दूसरी ओर से एक ही आवज आती,
मधुर, मादक, 
मीठी मिश्री सी,
कृपया प्रतीक्षा करें आप कतार में हैं।

 

कृष्णा हैं एक, आवाज दे रहे अनेक,
अनेकों की अनेक व्याधियाँ
अनेकों की अनेक इच्छाऐं
अनेकों की अनेक आशायें
स्वप्नों की तो बात - ना पूछो,
सबके कलह का राज - ना पूछो
बताते सब अपने को मासूम,
सब कहते दूसरे को जाहिल,
सब गलती अपनी वो करते फिल्टर,
पर कृष्णा मुस्काते,
व्यथा कथा सब सुनते जाते,
वक्त तो लगेगा ही ज्यादा
कृपया प्रतीक्षा करें, आप कतार में हैं।

 

जोर यहाँ चलता नहीं कोई
शोर यहाँ होता नहीं कोई,
सभी की यहाँ बात हो रही
वनटूवन,
बिल पेमैन्ट की, नहीं बिसात कोई,
वे योग मुद्रा में बैठे हैं
स्वाहा, स्वधा उन्हें सब है पता,
अब तुम उन्हें क्या सुनाओगे
कतार में हो,
प्रतीक्षा की घड़ी समाप्त होगी,
उपयुक्त फल प्रतिफल पाओगे,
जब बात होगी तब सब 
सब कुछ कहना भूल जाओगे,
कृपया प्रतीक्षा करो, 
-----------------तुम कतार में हो।।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

सामाजिक आलेख

स्मृति लेख

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं