अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मनुष्य

अब तक था मनुष्य – 
अन्य का दुश्मन,
हैरान कर दिया उसने –
लगा करने,
अपने पर ही सितम।
स्वयं की रक्षा हेतु-
न घर बैठ पाए,
बाहर जाकर न उसे –
साथ अपने ले आए।
सतर्क करने पर भी न करे –
अपना ध्यान ,
जाने क्यों बन रहा –
वह स्वयं से ही अनजान?
 
बाहर दंड दंभ है–
क्या मनुज न तुझे यह ख़बर है?
बार-बार  तुझे –
तेरे स्वयं हेतु समझाते,
तिरस्कृत कर उन हिदायतों को–
हँसी हो तुम उनकी उड़ाते।
अपनी रक्षा न कर  पाए...
किन्तु अन्य में है
क्यों फैलाए? 
 
यह करोना वायरस–
है क्यों न तुझे समझ आए?
अपनी मत को जान बूझकर –
है मूढ़ क्यों बनाए?
घर बैठ अपनों संग –
समय न बिता पाए।
दिखाते हैं ये कर्म –
तेरे संस्कार,
संस्कार तो शायद ठीक थे
पर किया तूने,
इन पर अपनी मनमत का वार।
 
देख संसार के आँसू –
यूँ उतर रहा अभी सड़क पर,
न जाने क्या हादसा हो –
ज़रा न डर,
असर है तुझपर।
आधुनिक मानव होकर भी –
हो रहा पथभ्रष्ट,
अन्य  को तो होगा –
संग में होंगे तुझे भी कष्ट। 
ईश की इस परीक्षा को
होगा करना तुझे स्वीकार,
अच्छे अंक आएँगे
जब तू करेगा,
रख अपना स्वयं ध्यान।
कितने चिकित्सक कर रहे
हाथ जोड़ यह आह्वान, 
मानव तू घर रहकर
कर स्वयं पर इतना अहसान।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं