अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सावन  :  चार   कुंडलियाँ

सावन बरसा ज़ोर से, प्रमुदित हुआ किसान।
लगा रोपने खेत में, आशाओं के धान॥
आशाओं के धान, मधुर स्वर कोयल बोले।
लिए प्रेम-सन्देश, मेघ सावन के डोले।
'ठकुरेला' कविराय, लगा सबको मनभावन।
मन में भरे उमंग,  झूमता गाता सावन॥


सावन का रुख देखकर, दादुर ने ली तान।
धरती दुल्हन सी सजी, पहन हरित परिधान॥
पहन हरित परिधान, मोर ने नृत्य दिखाया। 
गूँजे सुमधुर गीत, ख़ुशी का मौसम आया।
'ठकुरेला' कविराय, मास है यह अति पावन।
कितने व्रत, त्यौहार, साथ में लाया सावन॥


जल की बूँदों ने दिया, सुखदायक संगीत।
विरही चातक गा उठा, विरह भरे कुछ गीत॥
विरह भरे कुछ गीत, नायिका को सुधि आई।
चला गया परदेश, हाय,प्रियतम हरजाई।
'ठकुरेला' कविराय, आस है मन में कल की।
सिहर उठे जलजात, पड़ीं जब बूँदें जल की॥  


छाई सावन की घटा, रिमझिम पड़ें फुहार।
गाँव गाँव झूला पड़े, गूँजे मंगलचार॥
गूँजे मंगलचार, ख़ुशी तन-मन में छाई।
गरजे ख़ुश हो मेघ, बही मादक पुरवाई।
'ठकुरेला' कविराय, ख़ुशी की वर्षा आई ।
हरित खेत, वन-बाग़, हर तरफ़ सुषमा छाई॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कहानी

कविता - हाइकु

दोहे

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं