अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बदला (आलोक कौशिक)

विजय झा ने शराब की तस्करी करके करोड़ों की संपत्ति अर्जित कर ली थी और अब उसने अपने काले धन को सफ़ेद करने के लिए एक स्कूल खोल लिया था। उसने उस स्कूल का नाम अपने इकलौते बेटे अभिज्ञान के नाम पर रखा था– 'अभिज्ञान इंटरनेशनल स्कूल'। अभिज्ञान इंटरनेशनल स्कूल शहर का सबसे बड़ा स्कूल था। 

बाईस वर्षीय अभिज्ञान और सीमा अच्छे दोस्त थे और एक ही कॉलेज में पढ़ते थे। सीमा एक निम्न मध्यमवर्गीय ख़ूबसूरत युवती थी। क़रीब एक वर्ष पूर्व बीमारी के कारण उसके पिता की मौत हो गई थी। पिता की मौत हो जाने से उसके घर की माली हालत ठीक नहीं थी। इसलिए एक दिन सीमा ने अभिज्ञान से कहा, "मेरे घर के हालात तो तुम जानते ही हो। क्या तुम मुझे कहीं कोई नौकरी दिलवा सकते हो?" 

"हाँ, लेकिन क्या तुम मेरे डैडी के स्कूल में पढ़ाना पसंद करोगी?" अभिज्ञान ने पूछा। 

"हाँ, ज़रूर," सीमा ने जवाब दिया। 

अभिज्ञान की माँ का देहावसान हुए दो वर्ष हो गए थे। अभिज्ञान और विजय का अधिकांश समय स्कूल में ही गुज़रता था। अपने बेटे के कहने पर विजय ने सीमा को शिक्षिका के पद पर नियुक्त कर लिया। 

ख़ूबसूरत सीमा को देखते ही विजय के अंदर छिपा शैतान जाग उठा। धीरे-धीरे विजय सीमा को अपने क़रीब रखने के लिए किसी ना किसी काम के बहाने अपने केबिन में बुलाने लगा और एक दिन मौक़ा देखकर सीमा का हाथ पकड़ लिया और कहने लगा, "सीमा, मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और शादी भी करना चाहता हूँ। मैं अपनी सारी जायदाद तुम्हारे नाम कर दूँगा। बदले में मुझे सिर्फ़ तुम्हारा प्यार चाहिए।" 

विजय की बातें सुनकर सीमा दौलत के लालच में बह गई और मर्यादा की सीमा लाँघते हुए विजय के आग़ोश में समा गई। 

विजय शादी का झाँसा देकर दो वर्षों तक सीमा का यौन शोषण करता रहा और बाद में शादी करने से साफ़ इनकार कर दिया। इसी बीच विजय के वकील ने सीमा को बताया कि विजय ने अपनी सारी संपत्ति अपने बेटे अभिज्ञान के नाम कर दी है। सीमा जानती थी कि अभिज्ञान उसे पसंद करता है और मन ही मन चाहता भी है। उसने इस बात का फ़ायदा उठाया और अभिज्ञान को अपने प्रेम जाल में फँसा लिया। जब अभिज्ञान पूरी तरह से उसके प्यार में पागल हो गया तो उसने अभिज्ञान के साथ कोर्ट में शादी कर ली और बड़ी ही चतुराई से सारी संपत्ति अपने नाम करवा ली। सारी संपत्ति की मालकिन बन जाने के बाद सीमा ने अपनी शादी की बात विजय को बता दी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता

कहानी

गीत-नवगीत

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं