अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मानव बनूँ

प्रश्न बहुतेरे
मैं शतशः अनुत्तरित
सभी सबसे पूछते हैं
मैं ख़ुद से पूछता हूँ
अपना लक्ष्य/अपनी निजता
बेधते हैं मुझे
प्रश्नमाप के ओछे विकल्प
डॉक्टर, इंजीनियर, व्यवसायी
क्या बनना चाहते हो
क्या है तुम्हारे शोध का विषय
साध रहे निशाना किसे मानकर चिड़िया की आँख
नहीं रहा अध्यवसाय
‘अध्ययन’ बना व्यवसाय


मैं खड़ा रहा सवालों की भीड़ में
चुप्पी साधे
बना रहा अजायबी प्राणी
खुद को ढूँढता/ सुप्त को झकझोरता
स्वयं के विकल्प पर
छिड़कता संजीवनी रस
लगने लगे कहकहे
पूछा गया बार-बार
मुझसे मेरा इरादा/मेरी भिज्ञता


मेरे अंदर का सबल जीव अचानक चिल्लाया
मैं बनना चाहता हूँ ‘मानव’
नहीं भेदना चाहता किसी चिड़िया की आँख
नहीं छीनना चाहता उसकी दृष्टि
जिससे देखती है वह
जीव को जीवन से प्यार करते


मेरे शब्द आलोचित हुए
मैं बना पूरी भीड़ में हँसी का पात्र
मरेगा भूखों एक का अनुभव बोला
दूसरे ने ताना दिया- किसी अन्य ग्रह का प्राणी है
बाकी ने सामूहिक व्यंग्य उगला-


भाइयों,
दर छोड़ने से पहले ज़रूर पाओ इनका आशीर्वाद
आखिर ऐसे रश्मीरथी
आजकल मिलते ही कहाँ हैं
सबने एक पर हँसा.......
........और एक ने सब पर
सभी चले गए मुझे छोड़कर
किन्तु मैंने,
स्वयं को थामे रखा

मैं अनन्य, मूक
बचा शेष
स्वत्व की रक्षा में
स्वयं का साक्षी स्वयं का संबल

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

नवगीत

ग़ज़ल

कविता

अनूदित कविता

नज़्म

बाल साहित्य कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं