अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मुख्यमंत्री 

संत बद्रीनाथ कश्यप के लाखों अनुयायी थे। अपने अनुयायियों के लिए वो भगवान सदृश थे। उनके राज्य में वही राजनीतिक पार्टी विजयी होती थी, जिसके पक्ष में वो प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से होते थे। उनकी कृपा से ही राजेश्वर सिंह विगत दस वर्षों से मुख्यमंत्री के पद पर आसीन थे। 

कुछ दिनों के बाद विधानसभा चुनाव होने वाला था। सभी राजनेता भली-भाँति जानते थे कि संत बद्रीनाथ कश्यप के अनुयायी उसी पार्टी अथवा उम्मीदवार को अपना वोट देंगे जिसे वो देने को कहेंगे। इसलिए सभी राजनीतिक पार्टियाँ अपने-अपने तरीक़ों से उन्हें लुभाने में लगी हुई थीं। किसी और को संत बद्रीनाथ कश्यप की कृपा ना प्राप्त हो जाए, यह सोच कर राजेश्वर सिंह उनसे मिलने उनके आश्रम पहुँच गए। 

"बाबाजी की जय हो। अपने भक्त का प्रणाम स्वीकार करें प्रभु!" राजेश्वर सिंह ने संत बद्रीनाथ कश्यप के पैर छूते हुए कहा। 

"अरे राजेश्वर, इस बार आने में देर कर दी तुमने। अब तक सात उम्मीदवार मुझसे मिलकर जा चुके हैं। कहीं तुम्हें ऐसा तो नहीं लगने लगा कि तुम मेरी कृपा के बग़ैर भी चुनाव जीत सकते हो?" संत बद्रीनाथ कश्यप ने कहा। 

"बिल्कुल नहीं बाबाजी। विलंब के लिए माफ़ी चाहता हूँ," राजेश्वर सिंह ने कहा। 

"चलो माफ़ किया। लेकिन एक बात हमेशा याद रखना कि जब तक मेरा हाथ तुम्हारे सिर पर है, तुम तभी तक मुख्यमंत्री हो." संत बद्रीनाथ कश्यप ने कहा। 

"आप बिल्कुल सत्य कह रहे हैं बाबाजी और इस बार भी अपना हाथ मेरे सिर पर बनाए रखिएगा," राजेश्वर सिंह ने कहा। 

"जाओ राजेश्वर, अपने राजतिलक की तैयारी करवाओ," संत बद्रीनाथ कश्यप ने कहा। 

"बाबाजी की जय हो!" कहते हुए राजेश्वर सिंह संत बद्रीनाथ कश्यप के चरणों में लोट गया। 

विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद चुनाव परिणाम आया। राजेश्वर सिंह की पार्टी विजयी घोषित हुई और एक बार फिर राजेश्वर सिंह मुख्यमंत्री के पद पर आसीन हुए। 

एक महीने पश्चात संत बद्रीनाथ कश्यप पर दो लड़कियों ने यौन शोषण का आरोप लगाया। पुलिस जब संत बद्रीनाथ कश्यप को गिरफ़्तार करने उनके आश्रम पर गई तो पुलिस को उनके अनुयायियों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा। इसी बीच संत बद्रीनाथ कश्यप ने मुख्यमंत्री राजेश्वर सिंह को फोन किया और क्रोधित होते हुए पूछा,  "यह सब क्या चल रहा है राजेश्वर?" 

"किसी भी राज्य में वही चलता है बाबाजी, जो उस राज्य का मुख्यमंत्री चाहता है। आप बहुत बड़ी ग़लतफ़हमी के शिकार हो गए थे। आपके बग़ैर भी मैं मुख्यमंत्री ही रहूँगा," राजेश्वर सिंह ने जवाब दिया। 

काफ़ी मशक़्क़त के बाद पुलिस संत बद्रीनाथ कश्यप को गिरफ़्तार करने में सफल हो गई। जो मीडिया कल तक उन्हें धर्मगुरु कहकर शीश नवाता था, आज बलात्कारी बाबा कहकर शोर मचा रहा था। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता

कहानी

गीत-नवगीत

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं