अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक कलाकार की मौत - डॉ. रानू मुखर्जी

कहानी: एक कलाकार की मौत
कहानीकार: डॉ. रानू मुखर्जी
समीक्षा: डॉ. शोभा श्रीवास्तव

 

डॉ. रानू मुखर्जी की यह कहानी उनकी लेखन क्षमता की उत्कृष्टता को प्रदर्शित करती है। अंत तक ऐसा लगता है जैसे रानू जी स्वयं कहानी सुना रही हैं। यह कहानी भावनात्मक संघर्ष के धरातल पर अवस्थित ऐसे मनोभाव को उजागर करती है जिसकी जकड़न में घिरा हुआ मनुष्य क्या खो रहा है, इस बात का वह अहसास ही नहीं कर पाता। बेटी पिता के बहुआयामी व्यक्तित्व पर गर्व करती है किन्तु पति की प्रतिभा जिसकी दुनिया सराहना करती है वही प्रतिभा पत्नी को जी का जंजाल लगती है। निराधार संदेह और सोच का यही खोखलापन रिश्ते की बुनियाद को ही खोखला कर देता है। शांतिप्रिय मनुष्य भले ही रिश्ते को टूटने से बचाने के लिये ख़ामोशी ओढ़ ले किन्तु उसके भीतर तब भी बहुत कुछ टूट रहा होता है। विश्वास और स्नेह से रिक्त भीतर की यह टूटन जिजीविषा को ही सोख लेती है। रह जाता है तो बस पिंजर– शुष्क, बेजान। इसके बावजूद बेटी तलाशती है अपने पिता का दबंग और सबल व्यक्तित्व, फोटो में ही सही। क्योंकि उसे पिता का कमज़ोर दिखना या हो जाना स्वीकार नहीं। रानू जी अपनी इस कहानी के माध्यम से भावनात्मक संघर्ष की सशक्त बानगी प्रस्तुत करती हैं। रानू जी रिश्तों में विश्वास, प्रेम और संवेदनशीलता की पक्षधर हैं। 'मैं' शैली में लिखी गयी इस कहानी की भाषाई गरिमा पात्रानुकूल एवं सराहनीय है। कहानी पाठक को अंत तक बाँधे रखती है। बेहतरीन रचना के लिये डॉ. रानू जी को बधाई।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

सामाजिक आलेख

रचना समीक्षा

साहित्यिक आलेख

कविता-मुक्तक

बाल साहित्य कविता

ग़ज़ल

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं