अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तुम्हें अगर फ़ुर्सत हो थोड़ी

तुम्हें अगर फ़ुर्सत हो थोड़ी, 
मैं भी कुछ कहना चाहूँगी।
ख़ाली समय तुम्हारा पा कर, 
मैं उसमें रहना चाहूँगी।
 
1.
स्मृतियों के शयन कक्ष के,
हुए अधखुले से दरवाज़े
जाने कहाँ बजा करते हैं,
मधुर मिलन बेला के बाजे
टोह तनिक लेना चाहूँगी।
ख़ाली समय . . .
 
2.
दबी कसक का एक बबूला,
हलक़ में आन फँसा हो जैसे।
क्रूर नियति ने अपना पंजा,
गर्दन घेर कसा हो जैसे।
उच्छ्वास भरना चाहूँगी।
ख़ाली समय . . .
 
3.
श्वासें लेकर मुझसे मेरे,
दिन जिस ओर चले जाते हैं।
पंछी आ कर उसी ओर से,
आशा दीप जला जाते हैं।
देहरी पर धरना चाहूँगी।
ख़ाली समय . . .
 
4.
देह परे की अभिलाषाएँ, 
हर दृष्टि दुर्वासा जैसी
कभी सजल न होने पाएँ,
आँखों की मर्यादा ऐसी।
चुपके से रोना चाहूँगी।
ख़ाली समय . .  . . .
 
5.
ख़ुद को जी लेने की ज़िद पर,
यहाँ ज़िंदगी आज अड़ी है।
कामनाएँ अमरत्व पा गईं, 
मौत तरेरे आँख खड़ी है।
थोड़ा सा जीना चाहूँगी।
ख़ाली समय . . .
 
6.
तितली सा उड़ने वाला मन, 
मछली सा है फँसा जाल में।
लहरों की आवाजाही से,
हुआ तरंगित सुप्तकाल में।
नदिया सी बहना चाहूँगी।
ख़ाली समय . . .
 
7.
गीत अनकहा रह जाता,
पर बोल स्वयं को रच लाए हैं।
नेह-सिक्त जब हृदय हुआ हो, 
गूँगे-बहरों ने गाए हैं।
वही गीत गाना चाहूँगी।
ख़ाली समय . . .

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
|

(रक्षाबंधन पर गीत)   अबके बरस मैं कैसे…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

अवध में राम आए हैं
|

हर्षित है सारा ही संसार अवध  में  …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत

कहानी

कविता

नज़्म

किशोर साहित्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

किशोर साहित्य कहानी

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं