अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अपनी आँखों  के मोती  को चुन-चुन  उठा लूँ मैं

फ़ाईलातुन/फ़ाईलातुन/मुस्तफ़्यलुन/फ़ैलुन 
2222  /  2222  /  2212  /  22
 
अपनी आँखों  के मोती  को चुन-चुन  उठा लूँ मैं। 
रुकना यारो थोड़ा कुछ 'औ' भी चोट खा लूँ  मैं। 
 
मेरे पलकों के  चिलमन  में जो  मुँह  छिपाती है, 
उसकी  ज़ुल्फ़ों  के साये  में  ये  सर  छुपा लूँ मैं। 
 
मेरे  दिल  में  हैं लाखों  घर  पर  तू  नहीं  आना,
हर घर में ग़म ही है तुमको किस घर बुला लूँ मैं।
 
मैं सबसे अहदो-पैमां भी करता 'हूँ' इस दम पर,
जब भी जी चाहे  तो सबसे  दामन  छुड़ा  लूँ मैं। 
 
तूं  जिस  से  मुझ  पे हँसता  वो तक़दीर है मेरा,
ये  मेरा   साया   है   इसको  कैसे  हटा   लूँ   मैं। 
 
है चाहत मेरी  मुझको  कर ले प्यार  फिर  कोई, 
दिल हल्का हो हिजरत में कुछ आँसू बहा लूँ मैं। 
 
रब दिल में  शोले हैं,  है तू हर बात  से वाकिफ़, 
आँखों  को  पानी  दे  हर  चिंगारी  बुझा  लूँ  मैं। 
 
कब के बिछड़े तुम प्यासे दिल के पास हो आए,
है  हसरत  तेरे  होठों  से  शबनम   चुरा   लूँ  मैं। 
 
मेरे    मुंसिफ़    मेरे    महमां   तेरी   इनायत  से,  
ख़ुश होकर डर  लगता है ना ख़ुद को गवां लूँ मैं। 
 
हो ग़र ऐसा  मेरे दिन  आएँ  फिर 'से'  बचपन के,
छुप के दादी की  बीड़ी को फिर से  जला  लूँ  मैं। 
 
मुझको हर घर की लाचारी दिखती सियासत सी,
हूँ   'बेघर'   इतनी   आबादी   कैसे   बचा  लूँ  मैं। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 कहने लगे बच्चे कि
|

हम सोचते ही रह गये और दिन गुज़र गए। जो भी…

 तू न अमृत का पियाला दे हमें
|

तू न अमृत का पियाला दे हमें सिर्फ़ रोटी का…

 मिलने जुलने का इक बहाना हो
|

 मिलने जुलने का इक बहाना हो बरफ़ पिघले…

 मिज़ाज पूछने आए, मिज़ाज करते हैं
|

मिज़ाज पूछने आए, मिज़ाज करते हैं हसीन कैसे…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता-मुक्तक

ग़ज़ल

नज़्म

बाल साहित्य कविता

गीत-नवगीत

किशोर साहित्य कविता

किशोर हास्य व्यंग्य कविता

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं