अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त

1.
कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। 
तुम कहते जनतंत्र है, मैं कहता धिक्कार!! 

2.
रहबर! तुझको कह सकूँ, कैसे अपना यार? 
तेरे-मेरे बीच में, शीशे की दीवार!! 

3.
मैं तो मिलने को गई, कर सोलह सिंगार। 
बख़्तर कसकर आ गया, मेरा कायर यार॥ 

4.
ख़सम हमारे की गली, लाल किले के पार। 
लिए तिरंगा मैं खड़ी, वह ले 'कर' हथियार॥ 

5.
षष्ठिपूर्ति पर आपसे, मिले ख़ूब उपहार। 
लाठी, गोली, हथकड़ी, नारों की बौछार॥ 

6.
ऐसे तो पहले कभी, नहीं डरे थे आप? 
आज़ादी के दर पड़ी, किस चुड़ैल की थाप?? 

7.
सहसा बादल फट गया, जल बरसा घनघोर! 
इसी प्रलय की राह में, रोए थे क्या मोर?! 

8.
चिड़िया उड़ने को चली, छूने को आकाश। 
तनी शीश पर काँच की, छत, कैसा अवकाश ?! 

9.
कहना तो आसान है, 'लो, तुम हो आज़ाद'! 
सहना लेकिन कठिन है, 'वह' जब हो आज़ाद!! 

10.
अपराधी नेता बने, पकड़ो इनके केश। 
जाति धर्म के नाम पर, बाँट रहे ये देश॥ 

11. 
कैसा काला पड़ गया, लोकतंत्र का रंग। 
अब ऐसे बरसो पिया, भीजे सारा अंग॥ 
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

कविता भट्ट - 1
|

दोहे 1. कोई भी अपना नहीं, ना ही जाने पीर।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

ललित निबन्ध

साहित्यिक आलेख

कविता

पुस्तक चर्चा

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं