अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आज़ादी (अनुजीत ’इकबाल’)

घाटी में सन्नाटा पसरा हुआ था, आबादी से दूर पुरशोर नाले के पास केवल एक ही घर था, सकीना का। रात के क़रीब एक बजे दरवाज़े पर दस्तक हुई और सकीना हड़बड़ा कर उठी और खिड़की से बाहर झाँका। उसके चेहरे पर चमक आ गई और उसने जल्दी-जल्दी दरवाज़ा खोला। सामने, मुस्तफ़ा खड़ा था, उसका पति। जेहादियों से मिल जाने के बाद मुस्तफ़ा ने घर छोड़ दिया था, लगभग दो साल पहले। उसके बाद से यह इन दोनों की तीसरी मुलाक़ात थी। 

“बड़ी मुश्किल से आया हूँ, सकीना। फौज का सख़्त पहरा लगा हुआ है,“ अंदर आते ही वह बोला।

“अल्लाह का शुक्र है तुम आ तो गए,“ नम आँखों से मुस्कुराते हुए सकीना बोली।

“तुम को देखने के लिए तरस गया था,“ उदास आँखों से सकीना की तरफ़ देखते हुए मुस्तफ़ा बोला।

लगभग आधे घंटे बाद, खाना खाने से फ़ारिग हो कर दोनों सोफ़े पर बैठे हुए बातों में मशग़ूल थे।

“कैसा चल रहा जिहाद?” सकीना ने पूछा।

“अल्लाह का फ़ज़ल है। आज़ादी मिल के रहेगी। वैसे, 26 जनवरी आ रही है अगले हफ़्ते, कुछ पटाखे और फुलझड़ियाँ सँभाल कर रखे हैं हिंदुस्तानियों के जलसे में चलाने के लिए,“ हँसता हुआ मुस्तफ़ा बोला।

“लेकिन, हम भी तो हिंदुस्तानी हैं….”

सकीना को बीच में टोक कर मुस्तफ़ा बोला, “सकीना, अब फिर से वो सब न शुरू कर देना। जानता हूँ, तुम फौजी की बेटी हो और हिंदुस्तान को अपना वतन मानती हो लेकिन हम जेहादियों का रास्ता और मंज़िल अलग है।“

“मुस्तफ़ा, तुम आराम कर लो।“

सोफ़े पर ही मुस्तफ़ा उसकी गोद में सिर रख कर लेट गया।

सकीना की आँखों में आँसू थे फिर अचानक वह ज़ोर से बोली, ”भाई जान, अंदर आ जाइए, दरवाज़ा खुला है।“

मुस्तफ़ा घबराकर खड़ा हो गया और देखा कि दरवाज़े पर भारतीय सेना का मेजर विक्रांत सहगल अपनी टीम के साथ खड़ा था।

ग़ुस्से से मुस्तफ़ा ने सकीना की तरफ देखा और चिल्लाया, ”धोखा!“

“मादर-ए-वतन के लिए जान भी हाज़िर है, फिर तुम तो राह भटक चुके हो। जाओ, तुमको सेना के हवाले करती हूँ। अब, तुम महफूज़ हो… अपने लोगों के बीच। अल्लाह के फ़ज़ल से तुमको आज़ादी मिल गई।“

सकीना के चेहरे का जलाल दहकती आग के सदृश था।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अगला जन्म
|

सड़क के किनारे बनी मज़दूर बस्ती में वह अपने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं