अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ख़ुशियों के दिन फिर आएँगे

आँखें  देख रही हैं राह 
अच्छे दिन कैसे आएँगे?
इंसान हुआ बेबस-लाचार
सुख के दिन कैसे आएँगे?
 
किसने बाँधा है हाथों को?
पैरों को जाना मना हुआ 
जीवन के पहिए टूट गए 
है सफ़र वहीं पर रुका हुआ 
छीन लिया किसने आकाश ?
हम कैसे अब उड़ पाएँगे?
 
पहले तो हाथ मिलाते थे
दोस्त गले मिल जाते थे
सब मिलकर बातें करते थे
हँस करके दिन कट जाते थे
यह दूरी बनी गले की फाँस
अब ऐसे क्या जी पाएँगे ?
 
दहशत में दुनिया की साँसें
घुट-घुट करके चलती हैं
उत्सव-मेले अब गए कहाँ?
शंकाएँ दिल में पलती हैं
त्योहार हुए हैं अब इतिहास
सहमे-सहमे क्या गाएँगे?
 
तालों के बंधन टूटेंगे
चाभी तो मिल ही जाएगी
फिर से हँसकर जीने की भी
आज़ादी मिल ही जाएगी
हो जाएगा निर्भय संसार
ख़ुशियों के दिन फिर आएँगे

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अंतहीन टकराहट
|

इस संवेदनशील शहर में, रहना किंतु सँभलकर…

अधरों की मौन पीर
|

अधरों की मौन पीर आँखों ने झेला है, मन मेरा…

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अनुभूति 
|

खिलखिलाती  फूल सी तुम  मन मनोहर…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

चिन्तन

लघुकथा

गीत-नवगीत

कहानी

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं