अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मोक्ष

बाबा आत्माराम बचपन में ही घर छोड़कर निकल गए थे। कुछ साधु-संतों की संगति में रहते-रहते वे भी साधु हो गए। हर समय उनके ओठों पर ईश्वर का नाम रहता था।

धीरे-धीरे उनकी ख्याति चारों ओर फैलने लगी। उनका प्रवचन सुनने के लिए श्रोताओं की भीड़ उमड़ पड़ती। वे सबको सांसारिकता से दूर रहने का उपदेश दिया करते थे कि इच्छाओं से दूर रहें और इस जन्म-मरण के चक्र से मुक्त हों। उनका सारा जीवन उपदेश देने में ही बीत गया।

आज वे मृत्यु-शय्या पर पड़े हुए थे। उन्होंने अपने शिष्य दिव्यप्रकाश का हाथ पकड़ रखा था और ठहर-ठहर कर बोल रहे थे, "तुम्हें मैंने अपने बच्चे की तरह स्नेह दिया है, दिव्यप्रकाश! तुम मेरी एक इच्छा पूरी कर देना। मेरे बक्से में तुम्हें मेरी सारी जमा-पूँजी मिल जाएगी। उसीसे तुम मेरी एक मूर्ति बनवा देना। अपनी यह इच्छा मैं जीते-जी नहीं पूरी कर पाया।"

इतना कहने के बाद वे शिष्य का हाथ अपने हाथों में थामे रह गए जैसे कह रहे हों कि तुम मेरी इच्छा पूरी कर दोगे ना? और इसी स्थिति में उनके प्राणों का पंछी देह-पिंजर से मुक्त हो गया।

फूलमती एक ग़रीब स्त्री थी जो घरों में झाड़ू-पोंछा करके अपना और अपने परिवार का पेट पालती थी। पति की मृत्यु होने के बाद शृंगार से उसका नाता हमेशा के लिए टूट गया था। वह बाल भी नहीं सँवारती थी। सिर पर चिड़ियों का घोंसला-सा बन गया था। दुर्बल शरीर लिए सारे दिन काम करती रहती। अत्यधिक श्रम और भोजन के अभाव में उसका शरीर ढह गया था। आज वह भी बिस्तर पर पड़ी हुई थी। उसने खाना-पीना छोड़ दिया था। उसके बेटे जो वयस्क हो चुके थे, उसकी सेवा में कोई कमी नहीं रहना देना चाहते थे। वे बार-बार पूछते कि वह क्या खाना चाहती है? परंतु उसके भीतर कुछ भी खाने या पाने की इच्छा बाक़ी नहीं रह गई थी। कुछ दिनों बाद वह चुपचाप चल बसी। उसे देखने से लगता था कि वह शांति से सो रही है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

Rajeev kumar 2021/06/15 07:50 AM

Dono logon ke moksh me antar, kahani pasand aayee.

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

चिन्तन

लघुकथा

गीत-नवगीत

कहानी

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं