अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वो सम्मान 

ऐ औरत!!
तू क्यों अपने चरित्र को लेकर परेशान है
बेदाग़ रहने का तेरा ही ठेका क्यों है
तू चाहे हर जन्म में अग्नि परीक्षाएँ दे
तुझे 'वो सम्मान' कभी नहीं मिलेगा
ज़रा सी ठिठोली का नतीजा चीर हरण
ज़रा सी ज़िद का नतीजा अपहरण
बता देगा यही सब कोई न कोई विद्वान
तू ज़ुबान पर क़ाबू रख मर-मर के जी
फिर भी तुझे 'वो सम्मान' कभी नहीं मिलेगा
एसिड अटैक हो या ब्लात्कार 
चुपचाप सहना सीख
मत माँग नपुंसकों से न्याय की भीख
पत्थर बन कर जी
फिर कोई राम आएगा
'ठोकर' मार कर तुझे इंसान बनाएगा
यही ठोकर तेरी नियति है
ठोकरें खाती जा
चरित्र प्रमाणपत्र दिखाती जा
फिर भी तुझे 'वो सम्मान' नहीं मिलेगा
इस सबकी ज़िम्मेदार तू ख़ुद
क्यों घर से बाहर की दुनियां में दख़ल दिया
क्यों नहीं केवल देह जनित समस्याओं को हल किया
तुझे विधाता ने देह ही पैदा किया है
भूल गई?
देहों को जनने का ठेका दिया है
सपनों के झूले पर झूल गई?
बस एक आकर्षक मशीन बन कर जी
न मान की भूख रख न अपने आप को जी
इन दिवस और पखवाड़ों ने 
भ्रमित कर दिया अख़बारों ने
क्यों मन में इरादे पाले
क्यों बड़े सपने देख डाले
सबसे जघन्य अपराध जो तूने किया
अपने अधूरे सपनों को बेटियों में बो दिया
हाँ पुरुष पिता और रक्षक भी होते हैं
सत्य वचन
मगर केवल अपनी जैविक सन्तान के
अगर नहीं तो फिर बोलो
निर्भया के आरोपी को वकील क्यों मिलता है?
और इतने पर भी समाज
उसे वकील साब क्यों कहता है?
कैमरे पीछा क्यों करते हैं?
बलात्कारी किसी औरत की नहीं
इसी दो मुँहे ज़हरीले समाज की पैदाइश है
होंठ सी ले 
पत्थर हो जा
समाज से पुजने का सुख मिलेगा
तुझे इससे न्याय सुरक्षा और 
'वो सम्मान' कभी नहीं मिलेगा...

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

किशोर साहित्य कविता

कविता

कहानी

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

किशोर साहित्य कहानी

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं