अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आठ मुक्तक पच्चीस मुहावरे

रिश्वतखोरों की मत पूछो,
ऐसी बाट लगाते हैं।
मोटी मोटी रक़में लेकर,
सिर अपना खुजलाते हैं।
नौ सौ चूहे खाकर बिल्ली,
हज को जाती हो जैसे।
आदर्शों का भाषण देकर,
बकरा ख़ूब बनाते हैं।
 
जिसकी लाठी भैंस उसी की,
बचपन से सुन आयी।
बाहुबली से डरते हैं सब,
कहते भाई  भाई।
काला आखर भैंस बराबर,
भले न वो कुछ जाने।
फिर भी उसके सारे अवगुण,
की होवे भरपाई।
 
धोबी के कुत्ते बन जाते,
अपनों को छलने वाले।
तिरस्कार का दण्ड भुगतते,
ख़ुद को ही ठगने वाले।
अपनों के जो हो न सके हैं,
वो क्या जाने वफ़ा यहाँ।
अंधकार में घिरते इक दिन,
वो ढोंगी मन के काले।
 
दिल वालों की दिल्ली है,
ये बात सुनी थी यारो।
रहते यहाँ बिलों में देखो,
काले  नाग   हज़ारों।
आस्तीन के साँप हैं ये सब,
कब डस लें ये ख़बर नहीं।
स्वयं बचो अरु देश बचाओ,
ढूँढ़ ढूँढ़ कर मारो।
 
रँगे सियारों से तुम बचना,
कभी न आना चालों में।
भोले भाले फँस जाते हैं,
इनके बीने जालों में।
ठग विद्या है इनका धंधा,
चिकनी चुपड़ी बातें हैं।
कौन पीठ में छुरा भोंक दे,
छुपे हुए ये खालों में।
 
मेरी एक पड़ोसन मित्रो,
पति को अपने बहुत सताती।
घर का सारा काम कराकर,
पैसे भी उससे कमवाती।
पति कोल्हू का बैल बना है,
क़िस्मत को है कोस रहा।
पत्नी का आदेश न माने,
बस समझो फिर शामत आती।
 
स्वतन्त्रता के दीवानों ने,
इंक़लाब जब बोला था।
नवल क्रांति की ज्वाला में,
तब हर सेनानी शोला था।
नाकों चने चबाया अरिदल,
त्राहि त्राहि था बोल उठा।
नाक रगड़ कर भागे सारे,
जिस जिस ने विष घोला था।
 
वो मेरी आँखों के तारे,
जो मेरे दो लाल दुलारे।
रात दिवस मैं नज़र उतारूँ,
मुझको लगते इतने प्यारे।
एक हूर है ज़न्नत की तो,
दूजा भी है चाँद का टुकड़ा।
माँ हूँ ख़्याल रखूँ मैं उनका,
बन जाते वो भी रखवारे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता

दोहे

लघुकथा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं