अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भूल न जाना आने को

जाते  हो परदेश  सजन जी,
जाओ    हम   नहीं  रोकेंगे।
मुझसे तेरा बिछड़ना असह्य,
फिर  भी  हम  नहीं टोकेंगे।
किंतु याद रहे!  कुछ नाते हैं, 
जन्म-जन्मांतर निभाने को।
आए हमारी याद 'हे प्रियवर!
भूल   न  जाना  आने   को।
 
जाते  ही  तुम  पाती लिखना,
अपनी   सुधि  बतला   देना।
कब   पहुँचे  कहाँ  ठहरे तुम, 
अपनी जगह का पता  देना। 
मुझसे भी तुम  सुधि  पूछना, 
सुधि   मेरी   बतलाने    को।
आए हमारी याद 'हे प्रियवर!
भूल   न   जाना   आने  को।
 
विधि की कैसी रीत जगत् में,
सब-के-सब     निभाते    हैं।
हृदय  के  भीतर   बसनेवाले, 
परदेशी      हो     जाते    हैं। 
सबकुछ   देता  हमें  विधाता, 
एक दिन फिर छीन जाने को।
आए हमारी याद 'हे  प्रियवर!
भूल   न   जाना   आने   को।
 
है ज्ञात मुझे हर   बात ये मेरी
आँखें    कभी    ना   सोएँगी।
नित सुबह पनघट, चौराहे पर,
बाट        तुम्हारी     जोहेंगी।
चार पैसे  रोटी   की   ख़ातिर, 
जाते   तुम   दूर   कमाने को।
आए हमारी याद  'हे प्रियवर!
भूल    न   जाना  आने   को।
 
सावन   में   जब  लगेंगे  झूले,
सूखेगी       मेरी      अमराई। 
मैं  समझूँगी  तुमको  प्रियतम, 
तनिक भी मेरी याद न आयी।
कोयल गई  न तुमको  बालम,
मेरी     संदेश     सुनाने   को।
आए हमारी  याद  'हे प्रियवर!
भूल   न    जाना   आने   को।
 
जब   लेंगी    यादें    अँगड़ाई,
नैनों  की  नदियाँ   सिसकेंगी।
बहेगी     जब-जब     पुरवाई, 
तन-मन    में   तरंगें    उठेंगी। 
हो जाओ असमर्थ जब अपने- 
यौवन    को    समझाने   को।
आए हमारी  याद 'हे  प्रियवर!
भूल   न    जाना   आने  को।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता-मुक्तक

ग़ज़ल

नज़्म

बाल साहित्य कविता

गीत-नवगीत

किशोर साहित्य कविता

किशोर हास्य व्यंग्य कविता

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं