अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक फ़रियाद मौत से भी

जब कोई आस न रहे दिल में 
साँसों से साँस निकल जाए 
ऐ मौत! तू चली आना; 
जब ज़िंदगी मेरी बिखर जाए।


जब जीवन सूना लगने लगे 
तन्हाई मेरी निखर आए,
जब सौंप के मुझे, तेरे वास्ते -
चुपके से मेरा वक़्त गुज़र जाए।


जब दुनिया बोझिल लगने लगे, 
मेरे अपने ही मुझसे उबने लगे,
किनारे तक पहुँचाकर मुझको 
जब कश्ती ही मेरी डूबने लगे,


हो पूरा जीवन अध्यात्म मेरा 
रेत सा मुट्ठी से फिसल जाए 
उस वक़्त चली आना प्रिये, 
जब ज़िंदगी मेरी बिखर जाए।


जब लगे कि मेरे जीवन में
जीने की क़सर बाक़ी नहीं,
जब लगे कि राहें जीवन में
कोई संगी नहीं साथी नहीं,


जब लगे कि आहें भर-भरके 
मेरा जीवन मुझसे जुदा हुआ,
जब लगे क़ाफ़िला जीवन का
है डूबने को रुका हुआ,


जब लगे कि दुल्हन डोली में 
चलने को तैयार आई,
जब लगे कि घड़ी आ गई अब
जब होती है अंतिम विदाई,


जब लगे कि दोनों आँखों से 
गंगा जमुना निकल आए,
तत्क्षण चली आना प्रिये!
जब जिंदगी मेरी बिखर जाए।


हे प्रिये! मुझे मालूम है,
तुम एक दिन ज़रूर आओगी 
जीवन के रंग तो बहुत देखे 
मरने का ढंग तुम बताओगी,

 

हर दरवाज़े, गली, मंजिल पे 
खाएँ हैं बस ठोकरें ही
मुझे पता है अंत में तुम्हीं 
अपनी गोद में सुलाओगी,

 

तू अश्क नहीं रे, इन नैनों में, 
वैराग्य तू मेरे जीवन में,
ऐ मौत तू काली घटा नहीं; 
शृंगार तू मेरे यौवन में,


न साया कोई दुर्भाग्य का तू; 
न दाग़ है तू मेरे दामन में,
मेरे जीवन में क्या कमी है अब
जब तू मेरी अपनी है, यारब!

उस वक़्त चली आना;


जब बुढ़ापा कमर कसने लगे, 
बिता के उम्र मेरी अपनी;
जब ज़िंदगी मुझपे हँसने लगे,

हे प्रिये! तू चली आना; 
जब ज़िंदगी मेरी बिखर जाए।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर हास्य व्यंग्य कविता

कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं