अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पहली किश्त

मिस्टर बल कुर्सी में धँसे हुये अपनी दृष्टि को टेबिल पर जमाकर कोई ख़ास पत्र पढ़ रहे थे कि किसी के आने की आवाज़ सुनकर उन्होंने सिर उठाया तो देखा कि रामाधार चपरासी सामने खड़ा है।

"क्या बात है तुम कुछ डरे से क्यों लग रहे हो?"

"सर बाहर तीन-चार लोग खड़े हैं कह रहे हैं साहब से मिलना है।"

"इसमें डर की क्या बात है?"

"सर जब मैंने उनसे कहा कि एक कागज़ में अपना नाम पता लिखकर दे दो तो वे कहने लगे हमें कागज़-वागज़ कुछ नहीं चाहिये, हम एम.एल.ए. के आदमी हैं। बातचीत चल ही रही थी कि तीन लोग बिना किसी औपचारिकता के अंदर आ गये और सामने खाली पड़ी कुर्सियों पर बैठ गये। मिस्टर बल के माथे पर बल पड़ गये। वे एक दबंग ईमानदार और कर्त्तव्यनिष्ठ ज़िला जंगल अधिकारी थे। ऊँचाई पूरे छ: फुट गठा हुआ बदन, रोबीला चेहरा और जूडो-कराटे के वे चेम्पियन थे, जाति के जाट थे। उन्होंने रामाधार से कहा तुम जाओ।

"कहिये मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ?" वे नम्रता से बोले।

"बल साहब आप ज़िले के फाँरेस्ट आफीसर हैं, सरकार ने आपको जंगल सुधार के लिये और नवीन वृक्षारोपण के लिये करोड़ों रुपये दिये हैं, हम चाहते हैं कि कुछ राशि हमें पार्टी फंड के लिये दे दें, हमारे विधायकजी ने कहा है।"

"अच्छा अच्छा आपको राशि चाहिये ज़रूर मिलेगी, कितनी चाहिये?"

"देखिये आपके यहाँ भ्रष्टाचार तो करोड़ों में होता है, खैर हमें क्या करना है, कुछ भी कीजिये हमें तीन लाख रुपये दे दें तो ठीक रहेगा।"

"हाँ हाँ, क्यों नहीं करोड़ों के भ्रष्टाचार में तीन लाख तो दिया ही जा सकता है। आप एक काम करें पैसे तो मैं आफिस में रखता नहीं हूँ आप शाम को घर पर आ जायें वहीं पर आपको रुपये दे दिये जायेंगे।"

शाम को बल साहब रुपये देने की तैयारी में व्यस्त थे। जैसे ही तीनों लोग बंगले में हाज़िर हुये उन्होंनें गर्मजोशी से उनका स्वागत किया और अपने ड्राइंग रूम में बाइज़्ज़त बिठाया और नौकर को किसी काम से बाहर भेज दिया।

"देखिये भाई साहब तीन लाख रुपये एक साथ देना तो संभव है नहीं, बड़ी राशि है, हाँ तीन किश्तों में हम यह राशि आपको दे सकते हैं, यदि स्वीकार हो तो बतायें?"

तीनों ने एक दूसरे की ओर देखा और इशारों इशारों में स्वीकृति जताई। एक बोला, "चलेगा सर किश्तों में भी चलेगा।"

ना सुनते ही बल साहब उठे, कमरा अंदर से बंद किया फिर एक को पकड़कर दीवाल से दे मारा, दूसरे की गर्दन मरोड़कर ज़मीन पर पटक दिया और तीसरे को गाल में इतनी ज़ोर से चांटा मारा की वह आठ दस फुट दूर जा गिरा। आखिर वह जूडो चेम्पियन तो थे ही। तीनों "मार डाला, मार डाला" चिल्लाते हुये दरवाज़ा खोलकर बाहर भागने लगे। बल साहब ने ज़ोर से कहा "यह पहली किश्त है,जब दूसरी चाहिये हो फिर आ जाना।"

फिर वे बड़बड़ाये अपना बिस्तर तो बँधा हुआ है फिर क्यों डरें, अपना सत्य तो अपने साथ है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कहानी

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य नाटक

बाल साहित्य कहानी

कविता

लघुकथा

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं