अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्त्री (संदीप कुमार तिवारी)

स्त्री! क्या तुम सिर्फ़ स्त्री हो?
इतनी पावन पवित्र पुनिता कौन थी?
स्त्री! तुम सिर्फ़ स्त्री हो तो सीता कौन थी?


गर तुम सोयी हो तो मैं तुम्हें जगाऊँ
आओ मैं तुमसे तुम्हारा परिचय कराऊँ
तुम धरती हो संसार धारी हो
तुम एक शक्तिवान नारी हो
विश्व जननी तुम में जगत व्याप्त है 
स्त्री! तुम बिन जीवन अपर्याप्त है 
स्त्री! क्या तुम सिर्फ़ स्त्री हो तो?


स्त्री! तुम सिर्फ़ स्त्री हो तो 
अनसूया माई कौन थी?
स्त्री! तुम सिर्फ़ स्त्री हो तो 
अहिल्याबाई कौन थी?
तुम लक्ष्मी हो, दुर्गा हो, सरस्वती हो
तुम किसी ग़रीब की सौभाग्यवती हो
स्त्री! तुम जन्म देनेवाली जाई हो
स्त्री तुम्हें पता! तुम्ही द्वारकामाई हो 
स्त्री! क्या तुम सिर्फ़ स्त्री हो?


ये जीवन तो, वैसे भी कशमकश लगता है 
पर, "स्त्री! तुम बिन बिलकुल नीरस लगता है 
तुम्हें भ्रम है कि हम ख़ुद में मग्न हैं     
पर, "स्त्री! हम तुम्हारे एहसानमंद हैं"
हम नासमझ निस्सहाय आयें जब इस लोक में 
तब तुम्हीं ने हमें सँभाला था -
नौ महीने तक कोख में 
स्त्री! क्या तुम सिर्फ़ स्त्री हो?


तुम हर पुरुष का सुंदर सपना हो
स्त्री! तुम्हीं भाव तुम्हीं कल्पना हो
स्त्री! तुम जीवन की आशा हो 
स्त्री! तुम प्रेम कि परिभाषा हो
तुम सबसे पवित्र गंगा का भेष हो
स्त्री! तुम हम सब में समावेश हो
स्त्री! तो क्या तुम सिर्फ़ स्त्री हो?


स्त्री! तुम सबलों में सबला हो 
कौन कहता है तुम अबला हो
अपनी सारी कमज़ोरियों को त्यागो स्त्री 
जागो स्त्री! जागो स्त्री! जागो स्त्री!
फिर से जागो स्वाभिमानी बनो
फिर से झाँसी वाली रानी बनो
स्त्री! क्या तुम सिर्फ़ स्त्री हो?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर हास्य व्यंग्य कविता

कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं