अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बँटखरे

मूलराज मोदी की किराने की छोटी सी दुकान थी। परिवार का भरण-पोषण ठीक से हो जाना था। दुकान की साफ़-सफ़ाई करने के बाद, तराजू की पूजा किया करता था, साथ ही साथ बँटखरों को अगरबत्ती भी दिखाता था। वैसे तो उसके पास हर नाप-तौल के बँटखरे थे, मगर पाँच किलो वाले दो बँटखरे थे क्योंकि पंसेरी का काम ज़्यादा होता था। पाँच किलो के दोनों बँटखरों का मूलराज मोदी ने नाम भी रख दिया था। जो बँटखरा पूरे तौल का था उसका नाम नामी था और जो पाँच किलो का बँटखरा खोखला था उसका नाम कामी रखा। नामी (बँटखरा) को कभी-कभी उपयोग में लाता था और कामी ( बँटखरा) का उपयोग बहुत अधिक करता था और डंडी मार कर मुनाफ़ा कमा लेता था। नामी और कामी दोनों बँटखरों में लड़ाई-झगड़ा, इर्ष्या और जलन चलता ही रहता था।

एक दिन मूलराज मोदी दोपहर का खाना खाने घर गया तो दोनों पाँच किलो के बँटखरे आपस में लड़ने लगे। कामी ने कहा, "नामी, मैं तुमसे हैसियत में बड़ा हूँ।"

नामी ने अपने ग़ुस्से पे काबू करते हुए कहा, "हम दोनों तो पाँच किलो वाले बँटखरे है फिर तू बड़ा कैसे हो गया?"

कामी ने अपनी बात को ऊपर रखते हुए कहा, "ठीक है, हम दोनों बँटखरों का वजन पाँच किलो ही है लेकिन लाला तुमको पैर के पास रखकर सोता है और हमको अपने सिर के पास। लाला हमको अगरबत्ती दिखाता है और तुम पर पड़ी धूल भी हमेशा साफ़ नहीं करता है।"

अब तो नामी (बँटखरे) को ऐसा लगने लगा कि कामी का पेट में चाकू घुसेड़ दे। नामी ने चाकू उठाया और कुछ सोचकर हँसने लगा। नामी को ठहाका लगाता देख कामी हैरान होकर उसे देखने लगा। नामी ने कामी से कहा, "अपाहिज का पेट क्या फाड़ना? तुम्हारा पेट तो पहले ही लाला ने फाड़कर तुमको खोखला कर दिया है और तुम्हारा वजन पाँच किलो से चार किलो कर दिया है। मैं तो पूरा हूँ, पूरा पाँच किलो।"

कामी ने कहा, "मैं हर रोज़ काम करता हूँ और तू आलसी है, इसलिए हमेशा, कोने में चूहे की बिल के ऊपर पड़ा रहता है।"

नामी (बँटखरे) ने कहा, "सौ सोनार की तो एक लोहार की। तुमको तो याद ही होगा कि जब चेक करने वाला अधिकारी आया था तो तुमको लाला ने शौचालय में छुपा दिया था और जब मूंगरे की माँ ज़िद पे आ गई थी की हमको बँटखरा उलट-फुलट कर देखना है तो लाला ने चौकी के पउवे के नीचे की ईंट निकालकर तुमको घुसेड़ दिया था।"

कामी ने डींग मारी, "मैं लाला को अमीर बनाता जा रहा हूँ।"

नामी जल उठा, "लोगों का श्राप भी तो ले रहा है। लोग गालियाँ देकर, उदास होकर, बड़बड़ाते हुए जाते है। हमसे तो सारे लोग ख़ुश होकर, आशीर्वाद देते जाते हैं।"

कामी ने दलील दी, "गाली तो लाला को पड़ती है, हमको क्या?"

नामी ने कहा, "लाला को अगर पड़ती है तो तुमको नहीं पड़ती है? बहाना तो तू ही होता है।"

कामी ने बहस ख़त्म करते हुए कहा, "हाँ मेरे भाई, तुम ठीक कह रहे हो।"

दोनों पाँच किलो के बँटखरे-नामी और कामी ने फ़ैसला लिया कि "हमलोग कभी नहीं झगड़ेंगे। हमेशा एक दूसरे की इज़्ज़त करेंगे।"

अगली सुबह लाला ने जब इलेक्ट्रानिक तराजू मँगा लिया तो दोनों बँटखरों का मिलन जुदाई में बदल गया। दोनों बँटखरों को कबाड़ी के पास बेच दिया गया। तराजू को भी साथ में बेच दिया गया। सारे बँटखरे बिक गये।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

सांस्कृतिक कथा

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं