अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हमारा कुशल भारत

संदर्भ नोट– अभी इसी महीने मैंने अपने गाँव की यात्रा की। सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगे और पाया कि क्या राजधानी दिल्ली, क्या पिछड़ा राज्य बिहार, या क्या दक्षिण भारत का पूर्ण विकसित महानगर बंगलौर और वहाँ स्थित पूर्ण डिजिटलाइज़्ड पैन कार्ड ऑफ़िस। सभी जगह सरकारी बाबूओं का हाल एक जैसा है। सुदूर दक्षिण से अंत उत्तर तक अपने देश के इस कार्य प्रणाली की सांस्कृतिक समानता पर मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ। देश के करोड़ों लोग अपने काग़ज़ में अपना ग़लत नाम,पता, उमर लिखे जाने से परेशान हैं जिसे सही करवाने के लिए दफ़्तरों के चक्कर पर चक्कर लगा रहे हैं आवेदन भेज रहें है। देखने सुनने में यह अविश्सनीय लगता है। मगर हमारे प्रिय भारतवर्ष की यह एक बहुत बड़ी और गौरवपूर्ण सच्चाई है। मेरी यह छोटी सी व्यंग्य कविता इसी संदर्भ में है। 

एक बार
सिर्फ़ एक बार
हमारा कुशल भारत
काग़ज़ देखकर 
कंप्यूटर में सही-सही
अपना नाम पता व उमर 
ठीक से लिखना सीख जाए
फिर देखते हैं 
कौन है दुनिया में 
जो हमसे एक सूत भी 
आगे बढ़कर दिखा दे
हम अपना नाम बदल देंगे
"बिहार-बिहार" सब कहता है न 
बदलकर "विजयी-विजयी" कर देंगे
वैसे आपकी जानकारी के लिए
एक बात बता दूँ
कोई अनपढ़ अर्द्धकुशल या अंधे नहीं हैं हम
पूरे पढ़े-लिखे आँख वाले हैं 
कर्मचारी चयन आयोग की
कठिन परीक्षा दी है पास की है
अनगिनत रिज़निंग सवालों के 
सफल अभ्यास किये हैं
न जाने कितने कठिन
लुप्त पदों के जबाब तलाशे हैं दिये हैं
हमारी कुशलता में तो कहीं संदेह नहीं
अग्नि से तपकर निखरी है
समझ में नहीं आता ये टाइपिंग 
और लिखावट की ग़लतियाँ 
न जाने कैसे किसकी लापारवाही से
समूचे देश में बिखरी हैं
दोषी चाहे जो भी हो 
जाँच का विषय है
पता नहीं किसी दुश्मन देश से 
मिली हुई कोई साज़िश ही हो
हमें आशा है आयोग बैठेगा
जाँच होगी और "गलतियाँ" 
दोषी साबित होंगी
इसीलिए तो कहता हूँ
अभी कोई ताना देता है 
तो देता रहे..
आशा में हम भी हैं
बस एक बार
सिर्फ़ एक बार
हमारा कुशल भारत
काग़ज़ देखकर 
कंप्यूटर में सही-सही
अपना नाम पता व उमर 
ठीक से लिखना सीख जाए
फिर हम भी देखते हैं ..!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

किशोर साहित्य कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

दोहे

सम्पादकीय प्रतिक्रिया

बाल साहित्य कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं